बिहार के अलग—अलग जगहों पर मनाया जाएगा आजादी का अमृत महोत्सव, 17 सितंबर से शुरू होगा जश्न

बिहार के अलग—अलग जगहों पर मनाया जाएगा आजादी का अमृत महोत्सव, 17 सितंबर से शुरू होगा जश्न

बिहार पर्यटन ने देश की आजादी की 75वीं वर्षगांठ को चिह्नित करने के लिए आजादी का अमृत महोत्सव के साल भर जश्न की योजना बनाई है। अधिकारियों ने बताया कि इससे संबंधित कार्यक्रम गांधी और चंपारण सत्याग्रह से संबंधित स्थलों और राज्य में बौद्ध, जैन, सिख और सूफी सर्किट से संबंधित स्थलों पर आयोजित की जाएगी।


जहां पश्चिम चंपारण के भितिहारवा आश्रम में गांधी के राज्य में आने पर एक प्रदर्शनी की योजना बनाई गई है, वहीं सूफी महोत्सव  जहानाबाद के काको में महिला सूफी संत की दरगाह पर आयोजित किया जाएगा। प्राचीन काल के नालंदा विश्वविद्यालय के अवशेषों पर होगा हेरिटेज वॉक, समारोह के दौरान दीघा घाट से दीदारगंज तक गंगा नदी में क्रूज अभियान की भी योजना बनाई गई है।


कार्यक्रमों का सिलसिला इस साल 17 सितंबर को पटना के राजधानी वाटिका में स्वतंत्रता संग्राम के साथ शुरू होगा।


पर्यटन मंत्री नारायण प्रसाद ने कहा, देश की आजादी के 75वीं सालगिरह का जश्न मनाने के लिए एक दर्जन से अधिक कार्यक्रमों की योजना बनाई गई है। इनमें से प्रत्येक कार्यक्रम अलग-अलग गंतव्यों पर आयोजित किया जाएंगे, जो पहले से ही सूचीबद्ध कर लिए गए हैं। हम इसके माध्यम से इन स्थानों के ऐतिहासिक और सांस्कृतिक महत्व को उजागर करना चाहते हैं।


उन्होंने आगे कहा, इसके अलावा इन कार्यक्रमों का उद्देश्य लोगों को राज्य और देश के गुमनाम नायकों के बारे में जागरूक करना भी है। हमारी विरासत, संस्कृति और स्वतंत्रता सेनानियों से संबंधित कई स्थान दशकों से अज्ञात हैं। इन स्थानों को भी आयोजनों के माध्यम से उजागर किया जाएगा।


समारोह के लिए सूचीबद्ध अन्य कार्यक्रमों में राज्य की राजधानी में सारण, कंगन घाट, बोधगया, राजगीर, रोहतास, वैशाली, सीतामढ़ी, मनेर शरीफ, मुंगेर, भागलपुर, बांका और पटना साहिब में समारोह शामिल हैं।


0Comments