होम > विशेष खबर

चीन ताइवान को अपना मानता हैं

चीन ताइवान को अपना मानता हैं

नैंसी पेलोसी ताइवान क्या पहुँची चीन आग बबूला हो गया है,चीन ताइवान को अपना मानता है। 70 साल पहले चीन का ही ताइवान पर राज था, 1949 से पहले ताइवान का वजूद नही था, इस दीप पर जापान का राज था, दूसरे विश्व युद्ध मे  चीन ने कब्जा कर लिया उसके बाद  कम्युनिस्ट और नेशनलिस्ट में गृहयुद्ध शुरू हो गया। 

जिसमें नेशनलिस्ट हार गये और वह ताइवान में बस गए और अलग देश घोषित कर दिया। 1542 में जापान का एक जहाज जा रहा था जो  ताइवान पर रुका।  पुर्तग़ालियों ने इसे इल्हा फारमोसा कहा जिसका मतलब है खूबसूरत दीप, दूसरे विश्व युद्ध के बाद इसका नाम ताइवान पड़ा। आज जो अवस्था है one china policy , यदि इसको स्वीकार न किया गया होता तो यह नौबत नही आती