होम > भारत

TURKEY ने रूस-निर्मित एस-400 मिसाइल रक्षा प्रणाली का परीक्षण कर लिया

TURKEY ने रूस-निर्मित एस-400 मिसाइल रक्षा प्रणाली का परीक्षण कर लिया

राजस्थान | देश के सैन्य बुनियादी ढांचे को और मज़बूती देने के लिए, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Defence Minister Rajnath Singh) ने आधिकारिक तौर पर राजस्थान में वायु सेना में मध्यम दूरी की सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल वायु रक्षा प्रणाली (medium range Surface-to-Air missile defence system) को शामिल किया है। 

देश के सैन्य बुनियादी ढांचे को और मज़बूती देने के लिए, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आधिकारिक तौर पर राजस्थान में वायु सेना (Indian Air Force) में मध्यम दूरी की सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल वायु रक्षा प्रणाली को शामिल किया है। MR-SAM रक्षा प्रणाली (MR-SAM defence system) को गुरुवार को जैसलमेर में भारतीय वायु सेना के 2204 स्क्वाड्रन में शामिल किया गया।  इस अवसर पर बोलते हुए, रक्षा मंत्री ने कहा, एमआर-एसएएम प्रणाली स्वदेशी रक्षा प्रौद्योगिकियों में आत्मनिर्भरता की दिशा में एक और कदम है।
 
वायु रक्षा प्रणाली की सीमा 70 किलोमीटर है और यह किसी भी विमान, हेलीकॉप्टर और आने वाली मिसाइलों को मार सकती है। मच-2 की रफ्तार से यह भारतीय सैन्य प्रतिष्ठानों की सुरक्षा में अहम होगा। इजरायल एयरोस्पेस इंडस्ट्रीज (Israel Aerospace Industries) और डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (Defence Research and Development Organisation) के बीच सिस्टम को विकसित करने के लिए एक दशक पहले डील साइन की गई थी।

इससे पहले कल, राजनाथ सिंह और सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी (Road Transport and Highways Minister Nitin Gadkari) ने संयुक्त रूप से राजस्थान में बाड़मेर के पास NH-925A पर सट्टा-गंधव खंड पर IAF के लिए एक आपातकालीन लैंडिंग सुविधा (Emergency Landing Facility) का उद्घाटन किया। प्रदर्शन के दौरान उतरने वाला पहला विमान C-130J सुपर हरक्यूलिस परिवहन विमान था जिसमें राजनाथ सिंह, गडकरी और एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया (RKs  Bhadoria) सवार थे।

चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत ( Chief of Defence Staff General Bipin Rawat) ने जालोर में राष्ट्रीय राजमार्ग पर लैंडिंग प्रदर्शन देखा। श्री सिंह ने COVID-19 प्रतिबंधों के बावजूद 19 महीनों के भीतर आपातकालीन लैंडिंग फील्ड को पूरा करने के लिए IAF, NHAI और निजी क्षेत्र की सराहना की।

TURKEY ने रूस-निर्मित एस-400 मिसाइल रक्षा प्रणाली का परीक्षण कर लिया