होम > राज्य > दिल्ली

कॉलेज, प्रयोगशालाएं, पुस्तकालय बंद होने पर भी कम नहीं हुआ दिव्यांग छात्रों का हौसला

कॉलेज, प्रयोगशालाएं, पुस्तकालय बंद होने पर भी कम नहीं हुआ दिव्यांग छात्रों का हौसला

नई दिल्ली| कोरोना वायरस संक्रमण के कारण अधिकतर विश्वविद्यालय, कॉलेज, प्रयोगशालाएं, लाइब्रेरी सभी बंद पड़े हैं। कोचिंग संस्थानों से लेकर स्कूल तक सब बंद है। इस कठिन समय में हर व्यक्ति की परेशानियां बहुत बढ़ गई है।


वहीं इस समय में दिव्यांग जनों और दिव्यांग छात्रों को भी कई समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। राहत की बात है कि कोरोना को ध्यान में रखते हुए दिल्ली विश्वविद्यालय ने पढ़ाई जारी रखने और परीक्षा देने में दिव्यांग छात्रों को कुछ अतिरिक्त सहूलियतें देने का अहम निर्णय लिया है। 


दिल्ली विश्वविद्यालय में लगभग दो हजार छात्र, 300 शिक्षक व 200 दिव्यांग कर्मचारी है। कई कॉलेजों में उनके लिए चलने के लिए टेक्सटाइल फ्लोरिंग, रैम्प, लिफ्ट, ब्रेल चिन्ह, ब्रेल प्रिंटर आदि नहीं है। हालांकि डीयू के करीब एक दर्जन कॉलेजों में दिव्यांग छात्रों से संबंधित यह सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं। 

इन कॉलेजों में है सुविधा

इनमें हंसराज कॉलेज ,खालसा कॉलेज , माता सुंदरी कॉलेज , मिरांडा हाउस ,सोशल वर्क डिपार्टमेंट, सोशल साइंस फैकल्टी,लक्ष्मी बाई कॉलेज, श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स, आई.पी कॉलेज, लेडी श्रीराम कॉलेज, राजधानी कॉलेज, सत्यवती कॉलेज शामिल हैं।


विश्वविद्यालय बंद होने के बावजूद विकलांग छात्रों के हौसले में कमी नहीं आई है। दिल्ली विश्वविद्यालय के डीन एग्जामिनेशन डीएस रावत का कहना है कि इस बार हुई ओपन बुक एग्जाम में 734 दिव्यांग छात्र शामिल हुए। अच्छी बात यह रही कि सभी छात्रों ने सफलतापूर्वक न केवल अपनी परीक्षा दी बल्कि सामान्य छात्रों की ही तरह अपनी आंसर शीट भी जमा कराई। "


डीन एग्जामिनेशन के मुताबिक परीक्षा देने के लिए नेत्रहीन छात्रों को अपना राइटर साथ रखने का विकल्प दिया गया। इसके साथ ही सभी दिव्यांग छात्रों को सामान्य छात्रों के मुकाबले अधिक विकल्प उपलब्ध कराए गए। जहां सामान्य छात्रों को विश्वविद्यालय के पोर्टल पर आंसर शीट अपलोड करनी होती है। इस बार दिव्यांग छात्रों को आंसर शीट अपलोड करने या फिर ईमेल से भेजने का विकल्प दिया गया। उन्हें परीक्षा के लिए अतिरिक्त समय भी उपलब्ध कराया गया।


खास बात रही कि दिव्यांग छात्रों में से अधिकांश छात्रों ने सामान्य छात्रों की ही तरह दिल्ली विश्वविद्यालय के पोर्टल पर आंसर शीट अपलोड की। प्रत्येक छात्र की चार परीक्षा के हिसाब से दिव्यांग छात्रों कि लगभग 3000 के आसपास आंसर शीट थी, लेकिन विकल्प होने के बावजूद केवल 200 आंसर शीट ही ई-मेल से भेजी गई।


दिल्ली विश्वविद्यालय के मुताबिक इन परीक्षाओं में दिव्यांग छात्रों का प्रदर्शन बेहतरीन रहा है और लगभग सभी छात्र परीक्षाओं में उत्तीर्ण हुए हैं।


दिव्यांग छात्रों की पढ़ाई लिखाई को लेकर स्वयं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बेहद संवेदनशील है। नई शिक्षा नीति के 1 वर्ष पूरा होने के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि देश में एक और काम हुआ है जो उनके हृदय के बहुत करीब है। यह बहुत संवेदनशील भी है। 


आज देश में 3 लाख से भी ज्यादा बच्चे ऐसे हैं, जिनको शिक्षा के लिए सांकेतिक भाषा की आवश्यकता पड़ती है। इसे समझते हुए भारतीय साइन लैंग्वेज को एक भाषा विषय, एक सब्जेक्ट का दर्जा प्रदान किया गया है। अब छात्र इसे एक भाषा के तौर पर भी पढ़ पाएंगे। इससे भारतीय साइन लैंग्वेज को बढ़ावा मिलेगा।


0Comments