होम > व्यापार और अर्थव्यवस्था

GST परिषद बैठक: कई दवाओं जीएसटी मुक्त, नहीं बन पाई पेट्रोल-डीज़ल पर सहमति

GST परिषद बैठक: कई दवाओं जीएसटी मुक्त, नहीं बन पाई पेट्रोल-डीज़ल पर सहमति

लखनऊ | वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को GST परिषद की 45वी  बैठक की अध्यक्षता की। इस बैठक में GST को लेकर कई अहम् मुद्दों पर चर्चा हुई और कई अहम् फैसले भी लिये गए। कोरोना के खिलाफ जंग को सशक्त करते हुए GST परिषद ने COVID दवाओं पर घटी हुई GST दरों को 30 सितंबर से 31 दिसंबर तक बढ़ाने का फैसला किया है। 

लखनऊ में वस्तु एवं सेवा कर, जीएसटी परिषद की 45वीं बैठक के बाद मीडिया को जानकारी देते हुए, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा, ज़ोलगेन्स्मा और विलटेप्सो दो बहुत महंगी जीवन रक्षक दवाएं हैं जिनकी कीमत लगभग 16 करोड़ रुपये है। उन्होंने कहा कि परिषद ने इन दोनों दवाओं पर जीएसटी से छूट देने का फैसला किया है। स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा सुझाई गई कुछ दवाओं को भी छूट दी गई है।

परिषद ने कैंसर से संबंधित दवाओं और सात अन्य दवाओं पर भी जीएसटी को 12 से घटाकर 5 प्रतिशत कर दिया। बायो डीजल पर भी जीएसटी 12 से घटाकर 5 प्रतिशत किया गया।

दिव्यांगों द्वारा उपयोग किए जाने वाले वाहनों के लिए रेट्रो-फिटमेंट किट पर जीएसटी को घटाकर 5 प्रतिशत कर दिया गया है। समेकित बाल विकास सेवा योजना जैसी योजनाओं में उपयोग किए जा सकने वाले फोर्टिफाइड चावल के दानों पर जीएसटी दर 18 प्रतिशत से घटाकर 5 प्रतिशत कर दी गई है।

हालाँकि केरल उच्च न्यायालय के आदेश के बाद पेट्रोलियम उत्पाद भी परिषद के चर्चा में आए लेकिन इस मुद्दे पर कोई सहमति नहीं बन पाई। वित्त मंत्री ने बताया कि, 'GST Council ने माल ढुलाई वाहनों के परिचालन के लिये राज्यों की ओर से वसूले जा रहे नेशनल परमिट शुल्क से छूट दी है।  साथ ही डीजल में मिलाए जाने वाले बायोडीजल पर जीएसटी 12 से घटाकर 5 प्रतिशत कर दी गई है। 

वित्त मंत्री ने कहा, दोहरे कराधान से बचने के लिए विमान या अन्य सामान के पट्टे पर आयात पर कुछ निर्णय लिए गए हैं। कर उलटाव को कम करने और घरेलू विनिर्माण में मदद करने के लिए, निर्दिष्ट अक्षय ऊर्जा उपकरणों पर 12 प्रतिशत जीएसटी की सिफारिश की गई है जो आत्मनिर्भर भारत पहल में मदद करेगा।

0Comments