होम > राज्य > हरियाणा

हरियाणा ने एकत्रित किया 20 हजार करोड़ से अधिक का राजस्व

हरियाणा ने एकत्रित किया 20 हजार करोड़ से अधिक का राजस्व

चंडीगढ़| हरियाणा सरकार राजस्व एकत्र करने में सख्ताई से पेश आ रही है। यही कारण है कि हरियाणा सरकार के आबकारी एवं कराधान विभाग ने नई आबकारी नीति से राजस्व में 65 प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्ज की है।


राज्य के उप-मुख्यमंत्री और आबकारी एवं कराधान पोर्टफोलियो रखने वाले दुष्यंत चौटाला ने रविवार को कहा कि इस वित्तीय वर्ष में 26 अगस्त तक 20,558 करोड़ रुपये का राजस्व एकत्र किया गया है, जबकि पिछले साल इस अवधि में 12,831 करोड़ रुपये का राजस्व एकत्र किया गया था।


उनके हवाले से एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि 2018-19 में 37,350 करोड़ रुपये, 2019-20 में 39,837 करोड़ रुपये और 2020-21 में 45,119 करोड़ रुपये एकत्र किए गए।


उन्होंने कहा कि 2020-21 में 3,128 करोड़ रुपये के आरक्षित मूल्य (रिजर्व प्राइस) के साथ शराब के ठेके 3,559 करोड़ रुपये में नीलाम किए गए।


उन्होंने कहा कि 2021-22 में जिनके पास पहले से लाइसेंस था, उन्हें 10 फीसदी की बढ़ोतरी के साथ अनुबंध लेने का विकल्प दिया गया था। इस प्रकार 85 प्रतिशत अनुबंधों का नवीनीकरण किया गया। शराब के ठेके से 3,803 करोड़ रुपये का राजस्व फीस के रूप में प्राप्त हुआ।


2020 में देशी शराब का 32.42 प्रतिशत और भारत में बनने वाली विदेशी शराब का 25.45 प्रतिशत अतिरिक्त कोटा बढ़ा दिया गया।