होम > सेहत और स्वास्थ्य

रात के खाने में इन चीजों को भोजन में लेने से बचें

रात के खाने में इन चीजों को भोजन में लेने से बचें

रात के खाने को दिन भर के भोजन में से एक महत्वपूर्ण भोजन माना जाता है। चिकन करी से लेकर मटन बिरयानी और कुछ मसालेदार भोजन तक, भारतीय व्यंजन स्वादिष्ट भोजन के बारे में है। देर से खाना खाने से स्वास्थ्य के लिए खतरा पैदा हो सकता है। जब मनुष्य रात में देर से भोजन खाता हैं, यह पाचन संबंधी मुद्दों, उच्च रक्तचाप, पेट में चिड़चिड़ापन, आदि का कारण बन सकता है। कुछ आयुर्वेद के अनुसार, जल्दी रात में खाना खाने से अच्छी नींद आती है, जिससे स्वास्थ्य भी अच्छा रहता है। रात में खिचड़ी जैसे कुछ हल्के भोजन का सेवन करना अच्छा होता है। हम खजूर के साथ या कुछ बादाम के साथ एक गिलास दूध भी ले सकते है। यहाँ कुछ भोजन बताये गए है जो रात के भोजन में नहीं लेने चाहिए क्योंकि वह स्वस्थ के लिए ठीक नहीं होते है।

 

मसालेदार भोजन: मसालेदार भोजन हर व्यक्ति का सबसे अच्छा भोजन होता है। भारत में इतने सारे मसालेदार व्यंजन मिल सकते हैं, जिनको हम रात के  भोजन में पराठे, नान और रोटी के साथ आनन्द ले सकते है। लेकिन, क्या आप जानते हैं कि रात में इस तरह के मसालेदार भरी व्यंजनों का सेवन करने से सीने में अधिक जलन हो सकती है क्योंकि मसालेदार भोजन बहुत सारे घी और तेल के साथ बनाए जाते हैं, जो आगे चलकर दिल से संबंधित मुद्दों का कारण बन सकते हैं। इसके अलावा, इस तरह के व्यंजन शरीर के लिए अच्छे नहीं होते हैं क्योंकि मसाले मेटाबॉल्ज़िम बूस्टर के रूप में काम करते हैं।

 

मटन बिरयानी: इसको सबसे अद्भुत डिश के रूप में जाना जाता है लेकिन इसमें अधिक फैटी सामग्री और कैलोरी होती है। बहुत से व्यक्ति बिरयानी को खाते समय, कोई भी कैलोरी और वसा सामग्री के बारे में ज्यादा नहीं सोचते है। मटन बिरयानी जैसे उच्च वसा वाले और कैलोरी-घने पकवान का सेवन करने से अल्कोहल फैटी लिवर रोग को बढ़ावा दे सकता है जो भारत में बढ़ती बीमारियों में से एक बन रहा है।

 

पकोड़ा: यह एक सब लोगो का अच्छा स्नैक है जो किसी के भी मुंह में पानी ला सकता है। इस स्वादिष्ट पकवान का रात के भोजन के साथ अधिक सेवन करने से पेट में चिड़चिड़ापन आ सकता है और स्वस्थ भी बिगड़ सकता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि पकौड़े प्रकृति में अत्यधिक अम्लीय होते हैं क्योंकि वे अधिक तेल में तले हुए होते हैं। जब हम रात में अत्यधिक अम्लीय भोजन खाते हैं, तो इसे पचाना आसान नहीं होता है जो आपकी नींद में समस्याएं पैदा कर सकता है।

 

मीठे व्यंजन: भारतीय संस्कृति में, कुछ भी अच्छा भोजन के बाद कुछ मीठा खाना सबसे अच्छा माना जाता है, लेकिन यह स्वस्थ के लिए ठीक नहीं होता है। मिठाई भी अधिक भारी होती है क्योंकि यह खोये, घी, आदि से बनी हुई होती है। कुछ लोगो का यह भी मानना है कि रात के भोजन के बाद मिठाइयों का सेवन करने से खाना पचाने में मदद मिल सकती है।

 

किसी भी चीज़ को फॉलो करने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह जरूर ले। BS