होम > सेहत और स्वास्थ्य

खड़े होकर पानी पीना यानी बीमारी को दावत देना- मेधज न्यूज़

खड़े होकर पानी पीना यानी बीमारी को दावत देना- मेधज न्यूज़

आज हम बात करते हैं, कि अगर हम खड़े हो कर पानी पीते हैं। तो हमारे सेहत पर इसका क्या असर पड़ता हैं। या फिर खड़े हो कर पानी पीना सही है या गलत। हम सब जानते हैं। पानी हमारे जीवन के लिए कितना ज़रूरी है। शरीर को स्वस्थ और फिट रखने में पानी की अहम भूमिका होती है। कहा जाता है कि दिन भर में कम से कम 8 गिलास पानी पीना बेहद ज़रूरी है। मानव शरीर में पानी की मात्रा 50-60 प्रतिशत होती है। पानी शरीर के अंगों और ऊतकों की रक्षा करता है। साथ ही कोशिकाओं तक पोषक तत्व और ऑक्सीजन पहुंचाने का काम भी करता है।

तो आइये जानते है कि हमें पानी कैसे पीना चाहिए खड़े होकर या बैठ कर

आमतौर पर हम सब लोग जल्दी में खड़े होकर ही पानी पी लेते हैं। लेकिन ये कोई नहीं सोचता कि इस तरह पानी पीना कितना हानिकारक हो सकता है। बताया जाता है कि अगर आप खड़े हो कर पानी पीते या आपकी खड़े हो कर पानी पीने की आदत है। तो ज़रूरी पोषक तत्व और विटामिन लिवर और पाचन तंत्र तक नहीं पहुंचते और साथ ही यह सिस्टम से बहुत तेज़ी से गुज़र जाता है। जिससे आपके फेफड़ों और हृदय के काम को नुकसान पहुंचता है। क्योंकि इससे ऑक्सीजन का स्तर गड़बड़ हो जाता है। जब आप खड़े होकर गटागट पानी पी जाते हैं। तो इससे नसें तनाव की स्थिति में आ जाती हैं। तरल पदार्थ का संतुलन बिगड़ता है,और शरीर में टॉक्सिन्स और बदहज़मी बढ़ती है। यहां तक कि यह जोड़ों में तरल पदार्थ भी जमा करता है। जिससे गठिया हो जाता है,और हड्डियों को नुकसान पहुंचता है। पानी पीने का तरीका हमारी सेहत को कई तरह से प्रभावित करता है। क्योंकि पानी के प्रेशर से शरीर के पूरे बायोलॉजिकल सिस्टम पर प्रभाव पड़ता है। इससे जोड़ों के दर्द की समस्या हो जाती है। कहा जाता है कि अगर आप जब आप खड़े हो कर पानी पीते है। तो आप की प्यास कभी नहीं बुझती है। पानी पीने के कुछ मिनट बाद ही आपको फिर से प्यास लगने लगती है। जब हम बैठकर पानी पीते हैं तो हमारी मांसपेशियां और नर्वस सिस्टम बहुत रिलेक्स रहते हैं, और साथ ही खाना जल्दी डाइजेस्ट हो जाता है। इसलिए हमेशा बैठकर ही पानी पीने की कोशिश करें. इस तरह से पानी का फ्लो धीमा रहेगा और शरीर को जरूरी न्यूट्रिएंट्स भी मिलेंगे।

नोट :- मेधज न्यूज़  उपरोक्त जानकारी व सूचना को लेकर किसी तरह का दावा नहीं करता है और न ही जिम्मेदारी लेता है। उपरोक्त लेख में उल्लेखित संबंधित बीमारी के बारे में अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श लें।