होम > सेहत और स्वास्थ्य

सर्दियों में अमरुद को क्यों कहते है संजीवनी

सर्दियों  में अमरुद को क्यों कहते है संजीवनी

आज हम बात करते हैं,कि सर्दियों में अमरुद खाने से क्या क्या लाभ मिलता हैं। आप सभी को पता है कि सर्दी का मौसम आ चूका हैं। धीरे धीरे सर्दी अपने चरम पर आ जाएगी। और हम लोगो को भी मौसम के हिसाब से अपने खान पान में भी बदलाव करना हैं। कहा जाता हैं कि सर्दियां आते ही लोगों के घरो में बाजार से अमरूद आने लगते हैं। बताते है कि अमरुद में विटामिन सी, लाइकोपिन और एंटीऑक्सीडेंट्स से भरपूर मात्रा होता है,और अमरुद में केला के बराबर पोटैशियम होता हैं।

तो आइये अब बात करते है सर्दियों में अमरुद खाने के फायदों के बारे में।

आप सभी को पता है कि सर्दी के दिनों में कम पानी पीने से सेहत पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। पानी न पीने या कम पीने से शरीर में पानी की कमी हो जाती है। लेकिन लोग सर्दियों में पानी कम पीते हैं। इस लिए सेहतमंद रहने के लिए मौसमी फलों का सेवन करना चाहिए। जिनमें पानी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। इनमें एक फल अमरूद है। आजकल खराब दिनचर्या, गलत खानपान के चलते कब्ज की आम समस्या हो गई है। अगर आप इससे निजात पाना चाहते हैं। तो रोजाना अमरूद का सेवन करें। सर्दी में अमरूद खाने से पाचन तंत्र मजबूत होता है। अमरुद खाने से शुगर नहीं बढ़ता है। क्योकि इस में ग्लाइसेमिक इंडेक्स बहुत कम होती हैं। तो डायबिटीज के मरीज अमरूद का सेवन आसानी से कर सकते हैं। बताया जाता है कि अगर आप अमरुद का सेवन लगातार कर रहे है। तो आप का वजन कम हो जायेगा। क्योकि इस में डाइटरी फाइबर प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। इससे मेटाबॉलिज्म बूस्ट होता है। मैग्नीशियम तनाव को दूर करने के लिए सर्दियों में अमरूद जरूर खाएं । और साथ में अमरुद के सेवन से इम्यून सिस्टम भी मजबूत होती हैं। अमरूद में भी गाजर की ही तरह विटामिन ए मौजूद होता है, जो आंखों की रोशनी को तेज करता है। इसी के साथ ये आंखों की मसल्स को भी स्ट्रॉंग बनाता है। इसीलिए इसे रोजाना सुबह या फिर शाम के ब्रेक में खाएं। प्रेग्नेंट औरतों के लिए अमरूद बहुत अच्छा होता है। इसमें मौजूद फॉलिक एसिड या विटामिन बी-9 बच्चे के नर्वस सिस्टम को विकसित करने में मदद करता है। इसके साथ ही अमरूद छोटे बच्चों को न्यूरोलॉजिकल डिसॉर्डर्स से बचाता है।

नोट :- मेधज न्यूज़  उपरोक्त जानकारी व सूचना को लेकर किसी तरह का दावा नहीं करता है और न ही जिम्मेदारी लेता है। उपरोक्त लेख में उल्लेखित संबंधित बीमारी के बारे में अधिक जानकारी के लिए अपने डॉक्टर से परामर्श लें।