होम > सेहत और स्वास्थ्य

मकर संक्रांति से पूर्व आयुष मंत्रालय ने दी खिचड़ी खाने की सलाह, जाने इसके फायदे

मकर संक्रांति से पूर्व आयुष मंत्रालय ने दी खिचड़ी खाने की सलाह, जाने इसके फायदे

संतुलित डाइट लेकर कोई भी व्यक्ति मौसमी बीमारियों और तरह तरह के संक्रमणों से खुद का बचाव कर सकता है। संतुलित आहार व्यक्ति को स्वस्थ्य रखने में सहायक होते है। ऐसे में मौसम के अनुरूप अनाज, फल और सब्जियों का सेवन जरुर करना चाहिए, जिससे शरीर स्वस्थ्य बने।


अगर पोषक तत्व पाने के लिए अधिक मेहनत से बचना है तो इससे बचने का सबसे अच्छा उपाय खिचड़ी, बिरयानी, दाल-ढोकली और पुलाव जैसी डिशेज है। ये डिश कई प्रकार के अनाज, सब्जियां मसाले और हर्ब्स से  बनती है। ये स्वाद में जितनी बेहतरीन होती है इनमें पोषक तत्व भी उतने ही कूट कूट पर भरे होते है।


आयुष मंत्रालय ने भारतीय रेसिपीज की खूबियां


आयुष मंत्रालय इन दिनों ट्वीटर पर हेल्दी इटिंग से संबंधित सुझाव दे रहा है। मंत्रालय ने पारम्परिक भारतीय डिशेज के सेवन की सलाह दी है। हाल ही में मंत्रालय ने खिचड़ी और पुलाव खाने के संबंध में ट्वीट किया है। एक ट्वीट के माध्यम से इन दोनों डिशेज की खूबियों और इनके सेहत लाभ के बारे में मंत्रालय द्वारा लिखा गया। मंत्रालय ने इसका सेवन करने वालों को खास टिप देते हुए बताया कि है घर में बनने वाली खिचड़ी और बिरयानी हेल्दी भी हो सकती है।


मसालों में है औषधीय गुण


भारतीय किचन में कई मसाले उपलब्ध हैं जिनमें सैंकड़ों औषधीय गुण है। इसको किसी भी डिश में डालने से स्वाद तो बढ़ता ही है साथ ही पौष्टिकता भी बढ़ती है। सीमित मात्रा में अलग अलग मसालों का सेवन कर खाने को अधिक गुणकारी बनाया जा सकता है।