होम > सेहत और स्वास्थ्य

सीडीसी ने दी सलाह प्रेग्नेंट महिलाओं को लगे कोरोना का टीका

सीडीसी ने दी सलाह प्रेग्नेंट महिलाओं को लगे कोरोना का टीका

सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) ने प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए नई सलाह जारी की है। सीडीसी की रिसर्च में सामने आया है कि प्रेग्नेंट महिलाओं को कोरोना वायरस से मौत का जोखिम काफी अधिक है।


सीडीसी की मानें तो बुधवार तक 125,000 से अधिक प्रेग्नेंट महिलाओं को कोरोना वायरस हुआ है। उनमें से 22 हजार महिलाएं कोरोना से अधिक संक्रमित हुई। इन महिलाओं को अस्पताल में भी भर्ती कराना पड़ा। वहीं 161 महिलाएं कोरोना वायरस से जिंदगी की जंग हार गई।


जानकारी के मुताबिक कम से कम 22 महिलाएं अगस्त माह में ही कोरोना संक्रमण के बाद जिंदा नहीं रह सकी। सीडीसी की मानें तो प्रेग्नेंट महिलाओं में आईसीयू में एडमिट होने का खतरा भी अन्य मरीजों की अपेक्षा अधिक होता है।


इस संबंध में सीडीसी के डायरेक्टर ने बयान जारी कर कहा कि प्रेगनेंसी के दौरान तनाव हो सकता है। कई महिलाओं के लिए ये खास समय बनकर भी व्यतीत होता है। महामारी के दौरान प्रेगनेंसी सिर्फ महिला ही नहीं बल्कि परिवार के लिए भी काफी चिंता का विषय है। ऐसे में जरूरी है कि प्रेग्नेंट महिलाओं को भी कोविड वैक्सीन दिए जाने पर जोर दिया जाए ताकि वो खुद को और अपने गर्भ में पल रहे बच्चे को सुरक्षित रख सकें।


वैक्सीन लें प्रेग्नेंट महिलाएं


सीडीसी की मानें तो अगर प्रेग्नेंट महिलाएं वायरस की चपेट में आती है तो उसमें गंभीर मामले विकसित होने की संभावना अधिक होती है। इतना ही नहीं ऐसे मामलों में मौत होने की आशंका भी बढ़ जाती है। 


इस संबंध में यूनिवर्सिटी ऑफ वाशिंगटन ने भी एक रिसर्च की है। इसमें सामने आया कि कोरोना संक्रमण से जूझ रही प्रेग्नेंट महिलाओं को अस्पताल में भर्ती होने पर कोरोना का जोखिम 3.5 गुणा अधिक होता है। वहीं प्रेग्नेंट महिलाओं को मौत का जोखिम भी युवाओं की अपेक्षा 14 गुणा बढ़ जाता है। 


रिसर्च में सामने आया कि वैक्सीन लगवाने से महिलाएं सुरक्षित होते है बल्कि उनके बच्चे को भी वायरस से लड़ने के लिए एंटीबॉडी मिलती है।