होम > सेहत और स्वास्थ्य

इंटरनेशनल डे ऑफ ओल्डर पर्सन आज, ऐसे करें बुजुर्गों की देखभाल

इंटरनेशनल डे ऑफ ओल्डर पर्सन आज, ऐसे करें बुजुर्गों की देखभाल

इंटरनेशनल डे ऑफ ओल्डर पर्सन का आयोजन हर वर्ष एक अक्टूबर को किया जाता है। विश्व भर में इस दिन को मनाया जाता है। इस दिन को मनाने की शुरुआत यूनाइटेड नेशंस जनरल असेंबली ने 14 दिसंबर 1990 को की थी। इसके बाद अगले वर्ष 1 अक्टूबर से इस दिन का आयोजन किया जाने लगा।


इस दिन को मनाने के पीछे उद्देश्य है कि बुजुर्गों के प्रति उदार रहना चाहिए। बुजुर्गों की देखभाल की जिम्मेदारी को भी बखूबी उठाना चाहिए। वहीं कई मामलों में देखा जाता है कि युवा बुजुर्गों के साथ दुर्व्यवहार करते है। ऐसे में बुजुर्गों के साथ होने वाले  भेदभाव, अपमानजनक व्यवहार को खत्म करने पर जोर देना चाहिए।


गौरतलब है कि आज कल के बिजी लाइफस्टाइल में बुजुर्गों का खास ख्याल रखना मुश्किल भरा काम हो गया है। इस संबंध में संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या कोष की रिपोर्ट की मानें तो वर्ष 2025 तक भारत में बुजुर्गों की आबादी 15 करोड़ तक पहुंच जाएगी। ऐसे में जरूरी है कि देश के युवा बुजुर्गों की देखभाल करने पर जोर दें।


ऐसे रखें बुजुर्गों का ख्याल


फिजिकली एक्टिव व्यक्ति के शरीर पर उम्र का नकारात्मक प्रभाव कम पड़ता है। ऐसे में बुजुर्गों को रोज थोड़ी एक्सरसाइज जरूर करवाएं, ताकि वो फिजिकली फिट रहें। इससे हार्ट बीट बढ़ती है और ब्लड फ्लो भी अच्छा बना रहता है। फिजिकल एक्टिविटी करने से पसीने के रूप में कई हानिकारक पदार्थ शरीर से निकल जाते है।


नींद लेना आवश्यक


बढ़ती उम्र के साथ बुजुर्गों को नींद न आने की समस्या होने लगती है। व्यक्ति जब पर्याप्त नींद नहीं लेता तो दिल और दिमाग संबंधित कई बीमारियां होने लगती है। ऐसे में डॉक्टर की सलाह पर नींद की दवाई लें और व्यायाम भी करें। नींद की परेशानी दूर करने के लिए योग, ध्यान का सहारा ले सकते है।


सोशल लाइफ रखें बरकरार


जिंदगी के हर पड़ाव में इमोशनल और मेंटल सपोर्ट की जरूरत होती है। बुजुर्ग अगर समाज और दोस्तों से जुड़ें रहें तो इससे उनका मूड अच्छा बना रहता है। अकेलापन उनकी सेहत पर नकारात्मक प्रभाव डालता है।


बैलेंस डाइट लें


बैलेंस डाइट लेने से बुजुर्गों में गंभीर बीमारियों का खतरा कम हो जाता है। डाइट में कम फैट वाली चीजें और फाइबर की मात्रा अधिक होनी चाहिए। फाइबर खाने से पाचन तंत्र अच्छा रहता है। उन्हें लगातार तरल पदार्थ भी लेने चाहिए।