होम > सेहत और स्वास्थ्य

ओमिक्रॉन वेरिएंट को लेकर नया खुलासा, हो सकता है बेहद खतरनाक

ओमिक्रॉन वेरिएंट को लेकर नया खुलासा, हो सकता है बेहद खतरनाक

कोरोना वायरस संक्रमण के ताजा मामलों के बीच एक अहम जानकारी सामने आई है। एक अध्ययन में दावा किया गया कि ओमिक्रॉन के भी कोरोना वायरस के पुराने वेरिएंट की तरह काफी गंभीर सामने आ सकते हैं। हालांकि अबतक ये कहा जा रहा था कि ओमिक्रॉन वेरिएंट अधिक संक्रामक नहीं है।


जानकारी के मुताबिक ये अध्ययन अबतक प्रकाशित नहीं हुआ है। इसे दो मई को ‘रिसर्च स्क्वायर’ पर प्रिप्रिंट के रूप में डाला गया है। इससे पूर्व कहा गया था की बी.1.1.529 (ओमिक्रॉन) वेरिएंट को अधिक संक्रामक है। वहीं सार्स-सीओवी-2 के अन्य वेरिएंट अधिक गंभीर नहीं पाए गए थे।


बता दें कि रिसर्चर्स ने टीकाकरण के आंकड़ों को 13 अस्पतालों में समेत मैसाचुसेट्स की बड़ी स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली के गुणवत्ता नियंत्रित इलेक्ट्रॉनिक रिकॉर्ड के साथ जोड़ा है।


ता दें कि मैसाचुसेट्स अस्पताल, मिनर्वा विश्वविद्यालय और हार्वर्ड मेडिकल स्कूल के रिसर्च्स ने कोविड 19 के 1,30,000 मरीजों में कोविड 19 की सभी लहरों में अस्पतालों में भर्ती होने और मृत्यु के जोखिम की तुलना की जांच की। 


इसमें सामने आया कि ओमिक्रॉन की तुलना में पहले की अवधि में अधिक मिले। वेरिएंट का जोखिम हर बार समान स्तर पर पाया गया। रिसर्च्स ने पाया कि ओमिक्रॉन की गंभीरता को जल्दी और कम समय में समझना काफी चुनौतीपूर्ण है।

ओमिक्रॉन है संक्रामक

ओमिक्रॉन वेरिएंट के मामले अबतक सबसे अधिक सामने आए हैं। इसका पहला वेरिएंट दक्षिण अफ्रीका में मिला था। इसे ओमिक्रॉन बीए.1 नाम दिया गया वहीं अगले वेरिएंट को बीए.1.1 और बीए.2 वेरिएंट नाम दिया गया। यह ओमिक्रॉन का चौथा वेरिएंट है।