होम > सेहत और स्वास्थ्य

ओमिक्रॉन से आएगी दूसरी लहर जैसी तबाही, रिपोर्ट में हुआ खुलासा

ओमिक्रॉन से आएगी दूसरी लहर जैसी तबाही, रिपोर्ट में हुआ खुलासा

कोरोना वायरस के साथ ही देश में ओमिक्रॉन वेरिएंट के मामलों में बढ़ोतरी हो रही है। इस बीच एक नई जानकारी सामने आई है कि ओमिक्रॉन वेरिएंट के कारण भारत में दूसरी लहर जैसी ही स्थिति पैदा होगी। ये जानकारी सामने आते ही चिंता काफी बढ़ गई है।


दरअसल ये जानकारी यूएन की वर्ल्ड इकोनॉमिक सिचुएशन एंड प्रोसपेक्ट्स (WESP) 2022 की रिपोर्ट में आई है। इस रिपोर्ट ने भारत को चिंता में डाल दिया है। रिपोर्ट में कहा गया कि 


ओमिक्रॉन वेरिएंट की वजह से संक्रमण की कई नई लहरें आ रही है। इसका असर देशों की अर्थव्यवस्थाओं पर भी हो सकता है।


इस संबंध में संयुक्त राष्ट्र की भी एक रिपोर्ट आई है। इस रिपोर्ट में कहा गया कि भारत में अप्रैल और जून 2021 के बीच कोरोना के डेल्टा के तौर पर घातक लहर में 2,40,000 लोगों की मौत हो गई थी। इस दौरान आर्थिक सुधार भी बाधित हुआ था। माना जा रहा है कि आने वाले समय में भी ऐसे ही हालात पैदा हो सकते है।


संयुक्त राष्ट्र विश्व आर्थिक स्थिति एवं संभावनाएं 2022 रिपोर्ट में ये भी कहा गया कि कोरोना के अधिक संक्रामिक ओमिक्रॉन वेरिएंट के संक्रमण की नई लहरों के कारण मृतकों की संख्या और आर्खिक नुकसान में बढ़ोतरी हो सकती है।


रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में, डेल्टा वैरिएंट के कारण एक घातक लहर आई थी। इस लहर ने अप्रैल और जून के बीच 2,40,000 लोगों की जान ले ली थी और आर्थिक सुधार बाधित हुआ था। आने वाले निकट समय में ओमिक्रॉन वेरिएंट के कारण भी इसी तरह के हालात पैदा होते नजर आ सकते हैं।


इस संबंध में संयुक्त राष्ट्र के आर्थिक एवं सामाजिक मामलों के विभाग के अवर महासचिव लियु जेनमिन ने कहा कि कोविड-19 को नियंत्रित करने के लिए एक समन्वित और निरंतर वैश्विक दृष्टिकोण के बिना यह महामारी वैश्विक अर्थव्यवस्था के समावेशी और स्थायी उभार के लिये सबसे बड़ी जोखिम बनी रहेगी।