गुजरात में भारी बारिश की आशंका, मौसम विभाग ने जारी किया रेड अलर्ट

गुजरात में भारी बारिश की आशंका, मौसम विभाग ने जारी किया रेड अलर्ट

गांधीनगर | गुजरात के कई हिस्सों में सोमवार से ही भारी बारिश के कारण बाढ़ की स्थिति देखी जा रही है, पिछले 24-48 घंटों में पश्चिम भारतीय राज्य में लगातार भारी बारिश हो रही है और इसके बुधवार को भी जारी रहने के अनुमान हैं। गुजरात के ही राजकोट में सोमवार और मंगलवार की सुबह के बीच 203 मिमी बारिश दर्ज की गई है। 

यहाँ स्थिति इतनी बिगड़ गई थी की बचाव प्रयासों के लिए अधिकारियों को भारतीय वायु सेना और नौसेना से मदद लेनी पड़ी। प्रभावित क्षेत्रों से 2,000 से अधिक लोगों को सुरक्षित निकाल लिया गया, जबकि बाढ़ के कारण कम से कम एक व्यक्ति की मौत हो गई।

इन हालातों को देखते हुए गुजरात में बुधवार को रेड अलर्ट जारी कर दिया गया है।  मौसम विभाग के अनुसार अगले दो से तीन दिनों में राज्य के कई हिस्सों में भारी से बेहद भारी बारिश होने की संभावना है।  इसका कारण है की मानसून पश्चिमी तट पर अपने अंतिम चरण में है। 

भारत मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार, जूनागढ़ में छिटपुट स्थानों पर भारी से बहुत भारी बारिश के साथ छिटपुट अत्यधिक भारी बारिश जारी रहेगी। दक्षिण गुजरात के सूरत, डांग, नवसारी, वलसाड, तापी जिलों के साथ-साथ केंद्र शासित प्रदेश दमन, और दादरा और नगर हवेली और राजकोट जिलों में अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी बारिश की संभावना है। बुधवार, गुरुवार और शुक्रवार को सौराष्ट्र में अमरेली, भावनगर, गिर-सोमनाथ और केंद्र शासित प्रदेश दीव में भारी बारिश की संभावना है।

भारी बारिश की भविष्यवाणी को देखते हुए राष्ट्रीय आपदा मोचन बल ने कुल 15 टीमों को तैनात किया है। जामनगर और राजकोट में दो-दो टीमें और वलसाड, सूरत, नवसारी, गिर-सोमनाथ, अमरेली, भावनगर, जूनागढ़, बोटाद और मोरबी में एक-एक टीमें तैनात की गई हैं। गांधीनगर और वडोदरा में एक-एक टीम को रिजर्व में रखा गया है।

मंगलवार को स्टेट इमरजेंसी ऑपरेशन कंट्रोल (State Emergency Operation Control) में वेदर वॉच ग्रुप (Weather watch group) की बैठक में कृषि विभाग ने कहा कि 82.83 लाख हेक्टेयर में बुवाई की गई है, जो खरीफ फसल की बुवाई के तीन साल के औसत का 96.82 प्रतिशत है।

0Comments