भारतीय ग्रैंडमास्टर विश्वनाथन आनंद ने शतरंज में स्पार्कसन ट्रॉफी जीती

भारतीय ग्रैंडमास्टर विश्वनाथन आनंद ने शतरंज में  स्पार्कसन ट्रॉफी जीती

भारतीय ग्रैंडमास्टर विश्वनाथन आनंद ने रविवार को चिर प्रतिद्वंद्वी रूस के व्लादिमीर क्रैमनिक के खिलाफ नो कैसलिंग मुकाबले की चौथी और अंतिम बाजी ड्रॉ खेलकर स्पार्कसन ट्रॉफी जीत ली। 

पूर्व विश्व चैंपियन आनंद ने अंतिम बाजी सफेद मोहरों से खेली और दोनों खिलाड़ी 40 चाल के बाद बाजी ड्रॉ कराने को राजी हो गए जिससे भारतीय शतरंज खिलाड़ी ने 2.5-1.5 से मुकाबला जीता। भारतीय स्टार खिलाड़ी ने पहले दौर की बाजी में जीत दर्ज की थी जबकि बाकी तीन बाजियां बराबरी पर छूटी। 

 चैंपियन क्रैमनिक ने शनिवार को आनंद को तीसरी बाजी में बराबरी पर रोककर चार बाजियों के मुकाबले में बराबरी हासिल करने की उम्मीद जीवंत रखी थी। 

इस मुकाबले में खिलाड़ी कैसलिंग नहीं कर सकते हैं। ऊमनिक ने खेल को अधिक रोचक बनाने के लिए इस तरह का प्रारूप तैयार किया है। कैसलिंग राजा को बचाने और हाथी को सक्रिय खेल में शामिल करने के लिए एक विशेष चाल होती है। शतरंज में केवल कैसलिंग करते समय ही खिलाड़ी एक चाल में दो मोहरों को चल सकता है।

1Comments