होम > राज्य > हिमाचल प्रदेश

लोगों को सुरक्षित बाहर निकालना प्राथमिकता, मुख्यमंत्री ने तैनात किया अपना हेलीकॉप्टर

लोगों को सुरक्षित बाहर निकालना प्राथमिकता, मुख्यमंत्री ने तैनात किया अपना हेलीकॉप्टर

शिमला| हिमाचल प्रदेश में बीते पांच दिनों से लाहौल स्पीति जिले में सड़क बंद होने के कारण कई पर्यटक वहां फंसे हुए है। उन्हें सकुशल बाहर निकालने के लिए अब मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने अपना नया 16 सीटर हेलीकॉप्टर तैनात किया है। 


जानकारी के मुताबिक हिमालय की ऊंचाई पर कम से कम 66 लोगों के फंसे होने की आशंका है। इन सभी को सुरक्षित निकालने के लिए काम शुरू हो गया है। रविवार को मौसम साफ होने के बाद मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिया कि वे पर्यटकों सहित लोगों को निकालने के लिए अपनी पहली उड़ान में उनका हेलीकॉप्टर तैनात करें।


अपनी दिन भर की चार उड़ानों में, हेलीकॉप्टर टांडी से लगभग सभी फंसे हुए लोगों को निकालेगा और उन्हें बारिंग और कुल्लू छोड़ देगा, जहां से उन्हें सड़क मार्ग से सार्वजनिक परिवहन में उनके गंतव्य तक भेजा जाएगा।


दरअसल, लाहौल-स्पीति के जिला मुख्यालय केलांग पहुंचे ठाकुर ने शनिवार को जारी राहत और बचाव कार्यों की देखरेख के लिए राज्य की राजधानी पहुंचने के लिए रविवार को अपने पुराने हेलीकॉप्टर से यात्रा करने का फैसला किया ताकि नए हेलीकॉप्टर का इस्तेमाल फंसे हुए लोगों को निकालने के लिए किया जा सके।


नई दिल्ली, पंजाब, ओडिशा और महाराष्ट्र के पर्यटकों सहित कुल 221 लोगों को शनिवार तक विभिन्न स्थानों से सड़क मार्ग से बचाया गया। बचाव अभियान के लिए राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ), भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी), सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) और स्थानीय प्रशासन की टीमों को तैनात किया गया है।


एक सरकारी अधिकारी ने बताया कि इससे पहले खराब मौसम के कारण फंसे हुए लोगों को एयरलिफ्ट नहीं किया जा सका था। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री के निर्देश पर नया भाड़े का हेलीकॉप्टर कुल्लू शहर में तैनात था ताकि मौसम साफ होने पर इसे लोगों को एयरलिफ्ट करने में लगाया जा सके।


बता दें कि 27 जुलाई को बादल फटने के बाद जिला मुख्यालय केलांग से करीब 15 किलोमीटर दूर उदयपुर अनुमंडल के तोजिंग नदी में अचानक आई बाढ़ में सात लोग बह गए। तीन लोग अब भी लापता हैं।


0Comments