होम > सेहत और स्वास्थ्य

कोरोना संक्रमण के बाद हो सकती है जोड़ों के दर्द की समस्या

कोरोना संक्रमण के बाद हो सकती है जोड़ों के दर्द की समस्या

हैदराबाद| कोरोना वायरस संक्रमण का असर व्यक्ति के जोड़ों में कमजोरी आ सकती है। कोरोना संक्रमण से उबरने के बाद मरीजों के बीच ये परेशानी देखी गई है। इसके अलावा हड्डियों में भी दर्द की शिकायत के मामले सामने आए। इसकी जानकारी डॉक्टरों ने दी।


शुरूआती दिनों में यह देखा गया था कि कोरोना वायरस श्वसन प्रणाली को प्रभावित करेगा, उसके बाद हृदय, मस्तिष्क और अन्य अंगों पर प्रभाव पड़ेगा। अब यह देखा जा रहा है कि कोविड-19 संक्रमण से ठीक होने के बाद कम से कम 20-30 प्रतिशत पीड़ितों को जोड़ों के दर्द से पीड़ित होने की संभावना है।


कोविड-19 से संक्रमित मरीजों का इलाज करने वाले डॉक्टरों के मुताबिक जोड़ों के दर्द की शिकायत करने वालों की संख्या में इजाफा हो रहा है। यह समस्या उन मरीजों में ज्यादा देखने को मिल रही है, जिन्हें सांस फूलने या गंभीर संक्रमण से उबरने के लिए वेंटिलेटर पर रखना पड़ा था।


इस स्थिति को 'रिएक्टिव आथ्र्राल्जिया' या रिएक्टिव आर्थराइटिस कहा जाता है, जिससे मानव शरीर के दूसरे हिस्से में संक्रमण के कारण जोड़ों में दर्द और सूजन हो जाती है और यह कई कारणों से होता है।


ग्लेनीगल्स ग्लोबल हॉस्पिटल्स के सलाहकार, संयुक्त प्रतिस्थापन और पुनयोर्जी हड्डी रोग सर्जन कोल्ला साकेत ने कहा, "स्वस्थ भोजन का सेवन सुनिश्चित करने के लिए, कोविड -19 संक्रमण से पीड़ित लोग या जो हाल ही में इससे उबरे हैं, वे अधिक मात्रा में प्रोटीन युक्त भोजन का सेवन कर रहे हैं। इसके परिणामस्वरूप मानव शरीर में यूरिक एसिड का स्तर बढ़ जाएगा, इस प्रकार इसका परिणाम से जोड़ों में गंभीर दर्द होगा। यह महत्वपूर्ण है कि लोग हर समय अपने भोजन की आदतों को संयमित करें और अपने आप को अतिरिक्त प्रोटीन के साथ ओवरलोड करने के बजाय सही सलाह लें, जो निश्चित रूप से एक स्वस्थ दृष्टिकोण नहीं है।"


जगन मोहन रेड्डी वेलपुला, सीनियर कंसल्टेंट, ऑथोर्पेडिक सर्जन, एसएलजी हॉस्पिटल्स का सुझाव है कि स्वस्थ आहार लेने के अलावा, कोविड -19 संक्रमण से उबरने वालों को एक व्यायाम दिनचर्या का चार्ट बनाना चाहिए।


उन्होंने कहा, "यह शरीर को संक्रमण के बाद के प्रभावों से उबरने और खोई हुई ताकत हासिल करने में मदद करेगा। यह महत्वपूर्ण है कि जो लोग कोविड -19 संक्रमण से उबर रहे हैं, वे किसी भी संबंधित स्वास्थ्य जटिलताओं से बचने के लिए हर महीने कम से कम एक बार एक निश्चित अवधि के लिए डॉक्टर से परामर्श करें।"


वी.वी. सत्यनारायण, कंसल्टेंट ऑथोर्पेडिक सर्जन, अवेयर ग्लेनीगल्स ग्लोबल हॉस्पिटल्स ने स्टेरॉयड के उपयोग में सावधानी बरतने की सलाह दी।


उन्होने कहा, "कोविड -19 से संक्रमित रोगियों पर स्टेरॉयड का प्रबंध किया जाता है, जबकि संक्रमण के इलाज के लिए इनकी आवश्यकता होती है, संभवत: उन लोगों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है जिनके पास पहले से ही जोड़ों के दर्द जैसी अंतर्निहित स्वास्थ्य स्थितियां हैं। कुछ व्यक्तियों में, अपच, थकान जैसी समस्याएं और थकान भी कोविड -19 संक्रमण के बाद के चरणों में उत्पन्न होने वाली जटिलताओं के रूप में देखी जा रही है। डॉक्टरों के साथ नियमित परामर्श से वायरल संक्रमण से जुड़ी सभी संभावित समस्याओं को दूर करने में मदद मिलेगी।"


जब कोई व्यक्ति कोविड -19 संक्रमण से पीड़ित होता है, तो फेफड़े संभवत: तत्काल और सबसे अधिक संक्रमित अंग होते हैं। लेकिन इससे जुड़ी अन्य जटिलताएं भी हैं जिन्हें संक्रमण से ठीक होने के दौरान या बाद में नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए।


स्वस्थ आहार का सेवन, संयम से व्यायाम करना और समय पर डॉक्टर के पास पहुंचना मध्यम से लंबी अवधि में समस्याओं को दूर करने में मदद करेगा।


0Comments