होम > दुनिया

काबुल: अमेरिकी जनरल ने स्वीकारी भूल, ड्रोन हमले में मरने वाले नहीं थे आतंकी

काबुल: अमेरिकी जनरल ने स्वीकारी भूल, ड्रोन हमले में मरने वाले नहीं थे आतंकी

वाशिंगटन | अमेरिकी सेना द्वारा अफगानिस्तान (Afghanistan) की राजधानी काबुल में पिछले महीने 29 अगस्त को हुए ड्रोन हमले में अब अमेरिका ने अपनी भूल स्वीकार ली है। यूएस सेंट्रल कमांड के कमांडर केनेथ मकेंजी (General Kenneth F. McKenzie) ने शुक्रवार को स्वीकार किया कि काबुल में अगस्त के अंत में अमेरिकी ड्रोन हमले में 7 बच्चों सहित 10 नागरिकों की मौत हो गई। मकेंजी ने पेंटागन प्रेस ब्रीफिंग के दौरान संवाददाताओं से कहा, "जांच के निष्कर्षों और इंटरएजेंसी भागीदारों द्वारा विश्लेषण की अच्छी तरह से समीक्षा करने के बाद, मुझे अब विश्वास हो गया है कि उस हमले में सात बच्चों सहित कम से कम 10 नागरिक मारे गए थे।"

जनरल ने कहा कि, "हमारा यह आंकलन है कि यह संभावना नहीं है कि वाहन और मरने वाले आईएसआईएस-के (ISIS-K) से जुड़े थे या अमेरिकी सेना (US Military) के लिए सीधा खतरा थे।" जनरल ने स्वीकार किया कि घातक हमला एक गलती थी। उन्होंने कहा, "यह हमला इस विश्वास के साथ किया गया था कि यह हमारे सुरक्षा बलों और हवाई अड्डे के जरिये निकाले गए लोगों पर मंडराते खतरे को रोक देगा, लेकिन यह एक गलती थी और मैं माफी मांगता हूं." साथ ही मैकेंजी ने कहा कि वह इस हमले और दुखद परिणाम के लिए पूरी तरह से जिम्मेदार हैं।

यूएस सेंट्रल कमांड (US central Command) ने 29 अगस्त को कहा कि उन्होंने काबुल में एक वाहन पर ड्रोन हमला (Drone Strike) किया, जिसमें दावा किया गया था कि उसने आईएसआईएस-के द्वारा उत्पन्न खतरे को खत्म कर दिया था। अमेरिकी सेना ने दावा किया था कि विस्फोटक को सफेद टोयोटा सिडान के ट्रंक में लोड किया गया था, जिसे हेलफायर मिसाइल ने उड़ा दिया था। इसके साथ ही उन्होंने स्वीकारा कि कार चालक जमारी अहमदी का इस्लामिक स्टेट से कोई संबंध नहीं था और वह एक अमेरिकी सहायता समूह के लिए लंबे समय से कार्य कर रहा था। 

मैकेंजी ने कहा कि अमेरिकी सेना ने करीब आठ घंटे तक टोयोटा कोरोला को ट्रैक करने के बाद हमला किया था। 

द न्यूयॉर्क टाइम्स और द वाशिंगटन पोस्ट द्वारा अलग-अलग जांच में वाहन चालक की पहचान 43 वर्षीय जमराई अहमदी के रूप में हुई, जो इलेक्ट्रिकल इंजीनियर न्यूट्रिशन एंड एजुकेशन इंटरनेशनल के लिए काम कर रहे थे, जो कि पासाडेना, कैलिफोर्निया में स्थित एक अमेरिकी सहायता समूह है।

रक्षा सचिव लॉयड ऑस्टिन ने शुक्रवार को एक बयान में कहा, "अब हम जानते हैं कि अहमदी और आईएस-खोरासन के बीच कोई संबंध नहीं था।"

उन्होंने कहा, "अहमदी उतना ही निर्दोष था जितना कि अन्य निर्दोष लोग दुखद रूप से मारे गए थे।" उन्होंने कहा, "हम माफी मांगते हैं और हम इस भयानक गलती से सीखने का प्रयास करेंगे।" वॉचडॉग एयरवार्स के अनुसार, पिछले दो दशकों में अमेरिकी ड्रोन हमलों और हवाई हमलों में कम से कम 22,000 नागरिक मारे गए हैं।

0Comments