होम > विशेष खबर

गणेश जयंती पूजा मुहूर्त और तिथि,समय के बारे मे जानिए

 गणेश जयंती पूजा मुहूर्त  और तिथि,समय के बारे मे जानिए

गणेश जयंती को भगवान शिव और देवी पार्वती के पुत्र भगवान गणेश की जयंती के रूप में मनाया जाता है। माघ मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को यह शुभ दिन मनाया जाता है। इसे माघी गणेशोत्सव, माघ विनायक चतुर्थी और वरद तिल कुंड चतुर्थी के नाम से भी जाना जाता है। हर साल गणेश जयंती जनवरी या फरवरी के महीने में आती है। इस दिन, भक्त भगवान गणेश की पूजा करते हैं और उन्हें प्रसाद के रूप में मिठाई, मोदक का भोग लगाते हैं।

गणेश जयंती की  तारीख-
इस वर्ष गणेश जयंती पर रवि योग, शिव योग और पारिघ योग बन रहे हैं। पंचांग के अनुसार शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि 24 जनवरी को दोपहर 03 बजकर 22 मिनट से शुरू होकर 25 जनवरी को दोपहर 12 बजकर 34 मिनट तक है उदयतिथि के अनुसार इस वर्ष गणेश जयंती 25 जनवरी दिन बुधवार को मनाई जाएगी।

गणेश जयंती की  पूजा का समय-
25 जनवरी को शुभ मुहूर्त सुबह 11 बजकर 29 मिनट से दोपहर 12 बजकर 34 मिनट तक है।

गणेश जयंती पर चंद्रमा के दर्शन नहीं-
गणेश जयंती विनायक चतुर्थी है, इसलिए इस दिन चंद्रमा के दर्शन वर्जित हैं। इस दिन चंद्रमा को देखना शुभ नहीं माना जाता है।

गणेश जयंती के तीन योग-
इस साल गणेश जयंती पर तीन योग बन रहे हैं। परिघ योग सुबह से शुरू होकर शाम 06 बजकर 16 मिनट तक रहेगा। उसके बाद सुबह 07 बजकर 13 मिनट से रात 08 बजकर 05 मिनट तक शिवयोग और रवि योग शुरू होगा।

गणेश जयंती पर भद्रा और पंचक-
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार गणेश जयंती के दिन भद्रा और पंचक काल भी मनाया जाता है। 25 जनवरी को पूरे दिन पंचक है और भद्रा सुबह 07 बजकर 13 मिनट से दोपहर 12 बजकर 34 मिनट तक रहेगी. पूजा करने पर कोई रोक नहीं है।

गणेश जयंती का महत्व-
भगवान गणेश को प्रतीकात्मक रूप से विघ्नहर्ता के रूप में जाना जाता है - सभी बाधाओं को दूर करने वाला। उन्हें सफलता, खुशी और समृद्धि का प्रतीक माना जाता है। शिव पुराण के अनुसार माता पार्वती ने उबटन से एक बालक की मूर्ति बनाकर उसमें प्राण प्रतिष्ठा की, जिससे भगवान गणेश का जन्म हुआ। उस दिन माघ शुक्ल चतुर्थी तिथि थी। इसलिए हर साल इसी तिथि को गणेश जयंती मनाई जाती है।

नोट -
इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।

Tags: Lord ganapati, Medhaj astro