होम > यू.पी.एस.सी

केंद्रशासित प्रदेश बनने पहली बार लेह में होगी सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा

केंद्रशासित प्रदेश बनने पहली बार  लेह में होगी सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा

नई दिल्ली | लेह शहर में पहली बार इस साल 10 अक्टूबर को सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा आयोजित की जा रही है। यह पहली बार है जब संघ लोक सेवा आयोग (UPSC), ने लेह को अपने सिविल सेवा परीक्षा केंद्र सूची में शामिल किया है। कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग (डीओपीटी) के मंत्री जितेंद्र सिंह ने बुधवार को इसकी जानकारी दी और कहा कि इससे लद्दाख क्षेत्र के युवाओं को सुविधा मिलेगी। लेह केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख की राजधानी है।

UPSC  के इस कदम से लद्दाख क्षेत्र के युवाओं की लंबे समय से चली आ रही मांग को पूरा किया जाएगा, जिनकी शिकायत थी कि उन्हें हवाई किराए की वहन क्षमता की कमी और अनिश्चित मौसम की स्थिति के कारण देश के अन्य हिस्सों में परीक्षा केंद्र तक पहुंचने में मुश्किल हो रही है।

एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) का इस साल से लेह में एक परीक्षा केंद्र होगा, जो इस साल 10 अक्टूबर को होने वाली सिविल सेवा (प्रारंभिक) परीक्षा 2021 के लिए पहली बार संचालित होगा।

मंत्री ने यह भी याद किया कि करीब पांच साल पहले डीओपीटी ने यूपीएससी परीक्षा केंद्र की मांग उठाई थी, लेकिन इसे आगे नहीं बढ़ाया जा सका था।

सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हस्तक्षेप से, लद्दाख को एक अलग केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा दिया गया है। आईएएस और सिविल सेवा के उम्मीदवारों की सुविधा के लिए एक विशेष और आत्मनिर्भर सुविधा खोलने के लिए इसे उपयुक्तता में माना गया था। इस क्षेत्र ने अतीत में भारत को कुछ बेहतरीन आईएएस अधिकारी दिए है।

उन्होंने कहा कि यूपीएससी परीक्षा आयोजित करने के लिए लेह में एक नया केंद्र खोला जाएगा, जबकि लेह में लैमडोन ऑनलाइन मूल्यांकन संस्थान एसएससी परीक्षाओं की सुविधा प्रदान कर रहा है।

यह घोषणा सिंह ने लद्दाख के उपराज्यपाल आर.के. माथुर से नार्थ ब्लॉक में मुलाकात करने और लद्दाख के संदर्भ में आईएएस अधिकारियों की नियुक्ति और सेवा संबंधी अन्य मामलों पर चर्चा करने के बाद की।

सिंह ने यह भी बताया कि पूर्वोत्तर कैडर से संबंधित अखिल भारतीय सेवाओं के अधिकारियों के लिए विशेष भत्ते के रूप में मौद्रिक प्रोत्साहन भी इस साल 12 अप्रैल के एक आदेश के माध्यम से केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख में काम कर रहे एआईएस अधिकारियों को दिया गया है।

यह विशेष भत्ता पूर्वोत्तर क्षेत्र में एआईएस अधिकारियों के मूल वेतन का 20 प्रतिशत है।