43 बार कोरोना पॉजिटिव पाया गया यह शख्स, 10 महीने तक झेला कोरोना का दंश, ऐसे जीती जंग

43 बार कोरोना पॉजिटिव पाया गया यह शख्स, 10 महीने तक झेला कोरोना का दंश, ऐसे जीती जंग

कोरोना वायरस का प्रकोप पूरी दुनिया में फैला है. शायद ही ऐसी कोई जगह हो जहां कोरोना के संक्रमण का खतरा नहीं देखा गया हो. कोरोना संक्रमण के बाद आदमी का शरीर कमजोर होने के कई मामले देखे गए हैं. लेकिन क्या आप यकीन करेंगे कि एक ऐसा शख्स भी है जिसकी कोरोना रिपोर्ट 43 बार पॉजिटिव आई. ब्रिटेन के डेव स्मिथ का हाल कुछ ऐसा ही है. उनके संघर्ष की कहानी सुनकर आप हैरान रह जाएंगे.72 वर्षीय रिटायर्ड ड्राइविंग टीचर डेव स्मिथ करीब 10 महीने तक कोरोना से संक्रमित रहे. कोरोना संक्रमण के चलते जीवन बचाने के लिए उन्हें सात बार अस्पताल भी जाना पड़ा.

वह दुनिया के पहले ऐसे व्‍यक्ति बन गए हैं, जिन्‍हें लगातार इतने दिनों तक कोरोना संक्रमण रहा. डॉक्‍टर्स और दुनियाभर के विशेषज्ञ भी उनकी कोविड से लड़ने की ऐसी हिम्‍मत देखकर हैरत में हैं. इतना ही नहीं अब स्मिथ को मिरेकल मैन यानी जादुई शख्स कहा जाने लगा है. स्मिथ 10 महीनों तक कोविड से संक्रमित रहे. उनका 43 बार टेस्ट किया गया. इस दौरान हर बार उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आती थी. एक बार तो उनकी हालत इतनी ज्यादा बिगड़ गई थी कि घरवाले उनके अंतिम संस्‍कार की योजना बनाने लगे थे लेकिन वह जिंदगी की जंग जीत गए और फिर से सामान्य जीवन की ओर लौट आए हैं.

हालांकि कोरोना संक्रमण ने उनके शरीर को इतना तोड़ दिया कि उनका वजन 60 किलो घट गया. स्मिथ के साथ उनकी पत्नी भी क्वारंटीन रही थीं. उनकी पत्‍नी ने बताया कि यह एक साल उनके परिवार के लिए नरक जैसा रहा. कई बार उन लोगों को निराशा ने घेरा और लगा उन्हें लगता था कि सबकुछ पहले की तरह सामान्य नहीं हो पाएगा. उनके पति कई घंटों तक खांसते रहते थे. एक बार तो ऐसा भी हुआ था कि वह पांच घंटे तक खांसते रहे थे. 

हालांकि कोरोना वायरस से लड़ने के लिए स्मिथ को एक विशेष एंटीबॉडी ट्रीटमेंट दी गई जिसके बाद वह वापस ठीक हो पाए. हालांकि इस इलाज के चलते उनके शरीर का भार 60 किलो कम हो गया. स्मिथ खुद बताते हैं कि उनके लिए यह अनुभव काफी भयानक रहा था और वह खुद यकीन नहीं करते हैं कि वह वापस ठीक हो गए हैं. वह बताते हैं कि कई बार तो ऐसा हुआ जब उनकी सांस रुक-रूक सी गई लेकिन भगवान की कृपा से वह ठीक हो गए. स्मिथ को ल्‍यूकेमिया हो चुका है. 

उनकी कीमोथेरेपी के कारण इम्‍यूनिटी बहुत कमजोर हो गई है. चिकित्सकों ने अमेरिकी दवा कंपनी रेजेनरॉन द्वारा बनाई गई दवाओं का एक कॉकटेल स्मिथ को दिया था इसका इस्तेमाल पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के इलाज में किया गया था. इसके बाद ही 2 हफ्ते में उनकी हालत सुधार हुआ और उनका कोरोना टेस्ट निगेटिव आया.

0Comments