उत्तर प्रदेश में मिशन शक्ति करेगा पुरुषों को महिलाओं अधिकारों के प्रति जागरूक

उत्तर प्रदेश में मिशन शक्ति करेगा पुरुषों को महिलाओं अधिकारों के प्रति जागरूक

लखनऊ | योगी आदित्यनाथ सरकार (Yogi Adityanath Government) का महत्वकांक्षी अभियान 'मिशन शक्ति' (Mission Shakti) उनके लिए आम जनता तक पहुंचने और उन्हें जागरूक बनान के लिए एक मज़बूत हथियार साबित हो रहा है। अब प्रदेश में मिशन शक्ति की महिलाएं पुरुषों को संवेदनशील (Sensitive towards Women Rights) बनाने और उन्हें महिलाओं के अधिकारों के प्रति जागरूक करनइ जा रही हैं।  उत्तर प्रदेश महिला कल्याण विभाग, मिशन शक्ति अभियान के तहत महिलाओं के अधिकारों के बारे में पुरुषों को जागरूक करने के लिए जागरूकता कार्यक्रम आयोजित कर रहा है।

एक महीने के भीतर, राज्य भर के 10 लाख लोगों को संगोष्ठियों और कार्यशालाओं जैसे संचार के विभिन्न माध्यमों से जागरूक किया गया है। शासन प्रवक्ता के अनुसार पुरुषों को उनके कानूनी अधिकारों के प्रति जागरूक करने तथा राज्य सरकार की महिला कल्याण योजनाओं के लाभ के बारे में शिक्षित करने का कार्य किया जा रहा है।

विभाग की ओर से अलग-अलग प्रखंड की ग्राम सभाओं में भी अलग-अलग टीमें बनाकर कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। विभाग द्वारा प्रदेश में 21 सितंबर तक विशेष जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किये जायेंगे, जिसके तहत महिलाओं एवं बच्चों के खिलाफ हिंसा से संबंधित विभिन्न कानूनों एवं प्रावधानों के बारे में जागरूकता अभियान चलाया जाएगा।

महिलाओं और बच्चों के उत्पीड़न, घरेलू हिंसा, नशीली दवाओं के दुरुपयोग, तस्करी, बाल विवाह, भेदभाव, बाल श्रम और अन्य शोषण के खिलाफ ग्राम स्तर पर जागरूकता अभियान चलाया जाएगा। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 21 अगस्त को मिशन शक्ति के तीसरे चरण की शुरुआत की थी। मिशन शक्ति के तीसरे चरण के तहत राज्य के 75 जिलों में विभाग द्वारा दस लाख से अधिक लोगों को जागरूक किया गया, जिसमें 4.80 लाख से अधिक पुरुष और 5.94 लाख से अधिक महिलाएं शामिल हैं।

निराश्रित महिला पेंशन योजना, मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना, मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना सहित अन्य योजनाओं की जानकारी देने के लिए स्वावलंबन शिविर का भी आयोजन किया गया। महिलाओं को स्वरोजगार के अवसरों का लाभ प्राप्त करने में सक्षम बनाने के लिए योजनाओं के आवेदन भी स्वीकार किए जा रहे थे।

0Comments