होम > विशेष खबर

एस्ट्रॉयड से टकराएगा नासा का स्पेसक्राफ्ट, बदल देगा एस्ट्रॉयड डाइमॉरफस का रास्ता

एस्ट्रॉयड से टकराएगा नासा का स्पेसक्राफ्ट, बदल देगा एस्ट्रॉयड डाइमॉरफस का रास्ता

एस्ट्रॉयड या उल्का पिंड का पृथ्वी से टकराना हमेशा से एक समस्या बना हुआ था इसी समस्या का समाधान करने के लिए नासा ने एक मिशन तैयार किया है जिसका नाम DART अर्थात "डबल एस्टेरॉयड रीडायरेक्शन टेस्ट" मिशन है इस मिशन का उद्देश्य स्पेसक्राफ्ट से एस्ट्रॉयड की टक्कर कराकर एस्ट्रॉयड की दिशा और गति बदलना है।

नासा 27 सितम्बर को भारतीय समयानुसार सुबह 4 बजकर 44 मिनट पर पृथ्वी से लगभग एक करोड़ दस लाख किलोमीटर दूर नासा का एक स्पेसक्राफ्ट डाइमॉरफस नामक एस्ट्रॉयड से टकराएगा, इस घटना से डाइमॉरफस एस्टेरॉयड अपनी परिक्रमण गति में एक प्रतिशत बदलाव कर देगा जिससे इस पिंड को अपने उल्का पिंड की परिक्रमा करने में 10 मिनट की कमी आएगी।

2600 फिट व्यास का एस्ट्रॉयड "डिडिमोस" जिसका उपग्रह "डाइमॉरफस" है इसका व्यास 525 फिट है,नासा का स्पेसक्राफ्ट जिसकी लम्बाई 19 मीटर है जो डाइमॉरफस से 100 गुना छोटा है जब इस एस्ट्रॉयड से 24000 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से आकर टकराएगा तब यह एस्ट्रॉयड पर 100 मीटर गहरा गड्ढा कर देगा इस टकराव से तक़रीबन 1100 टन धूल और पत्थर स्पेस में फ़ैल जायेंगे। 

नासा के अनुसार यह मिशन सिर्फ एस्ट्रॉयड को हिलाने के लिए है जिससे खगोलीय पिंड की दिशा और गति बदली जा सके इंसान ऐसा पहली बार कर रहा है, यदि  DART मिशन सफल रहता है तो पृथ्वी की तरफ आने वाले किसी भी खतरनाक एस्ट्रॉयड से हम लड़ सकते हैं।