होम > विज्ञान और तकनीक

नोएडा में बनेगे माइक्रोसॉफ्ट, अडानी ग्रुप और एमएक्यू के डाटा सेंटर

नोएडा में बनेगे माइक्रोसॉफ्ट, अडानी ग्रुप और एमएक्यू के डाटा सेंटर

लखनऊ | दिल्ली से सटे नोएडा (Noida) में विकास की गति पूरे उत्तेर प्रदेश में सबसे तेज़ रही है। अब नोएडा (गौतमबुद्ध नगर) देश के बड़े सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) सेक्टर के हब (IT Hub) के रूप में शुमार किया जाएगा। बहुराष्ट्रीय कंपनी माइक्रोसॉफ्ट (Microsoft), अडानी ग्रुप (Adani Group) और एमएक्यू (MQ) जैसी विख्यात कंपनियों का नोएडा में डेटा सेंटर (Data Centers in Noida) की स्थापना करने के बाबत जमीन खरीदना इस बात के संकेत दे रहा है। 

इन तीनों ही कंपनियों के अलावा एचसीएल, गूगल और टीसीएस नोएडा में पहले ही पैर पसार चुकी हैं। जबकि हीरानंदानी ग्रुप, नेटमैजिक सर्विस, एसटीटी प्राइवेट लिमिटेड तथा अग्रवाल एसोसिएट लिमिटेड भी डेटा सेंटर स्थापित करने के सरकार के साथ संपर्क में हैं। राज्य में डेटा सेंटर तथा सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी (Software Technology) के क्षेत्र में निवेश कर रही ये कंपनियां मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Chief Minister Yogi Adityanath) के प्रयासों से ही राज्य में अपना उद्यम स्थापित कर रही हैं।

यूपी इलेक्ट्रानिक्स विनिर्माण नीति -2017 (UP Electronics Manufacturing Policy) के अंतर्गत दी गई रियायतों के चलते 30 बड़े निवेशकों ने आईटी सेक्टर में 20,000 करोड़ रुपये का निवेश करने में रूचि दिखाई। मुख्यमंत्री द्वारा आईटी सेक्टर में निवेश को बढ़ावा के लिए लायी गई आईटी नीति के चलते ही यह संभव हुआ।

आईटी सेक्टर में निवेशकों के बढ़ती रूचि को देखते हुए मुख्यमंत्री ने राज्य में इलेक्ट्रानिक्स निवेश को बढ़ावा देने के लिए राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में स्थित नोएडा, ग्रेटर नोएडा तथा यमुना एक्सप्रेस क्षेत्र को 'इलेक्ट्रानिक्स मैन्युफैक्च रिंग जोन' घोषित करने का फैसला लिया। सरकार के इस फैसले से चीन, ताइवान तथा कोरिया की अनेक प्रतिष्ठित कंपनियां यूपी में अपनी इकाइयां स्थापित करने के लिए आगे आयीं। बीते साल माइक्रोसॉफ्ट, अडानी ग्रुप, एमएक्यू, हीरानंदानी ग्रुप, नेटमैजिक सर्विस, एसटीटी प्राइवेट लिमिटेड तथा अग्रवाल एसोसिएट लिमिटेड ने भी यूपी में निवेश करने के लिए पहल की।

इन कंपनियों के निवेश संबंधी प्रस्तावों पर कार्रवाई करते हुए नवीन ओखला औद्योगिक विकास प्राधिकरण (New Okhla Industrial Development Authority) ने माइक्रोसॉफ्ट को सेक्टर 145 में 60 हजार वर्गमीटर आंवटित कर दी। इस भूमि पर जल्दी ही 1800 करोड़ रुपए का निवेश कर माइक्रोसॉफ्ट का साफ्टवेयर पार्क और डेटासेंटर स्थापित होगा। इस प्रोजेक्ट में 3500 से अधिक लोगों को रोजगार मिलेगा।

माइक्रोसॉफ्ट के आने से नोएडा समेत समूचा एनसीआर सॉफ्टवेयर हब के रूप में विकसित होगा। इसी प्रकार नोएडा अथॉरिटी ने अडानी ग्रुप को शहर के सेक्टर-62 में प्राइम लोकेशन पर 34,275 वर्ग मीटर का प्लॉट और नोएडा के ही सेक्टर-80 में अडानी इंटरप्राइजेज को 39,146 वर्ग मीटर जमीन अलॉट की गई है। कंपनी इस प्लॉट पर एक वल्र्ड क्लास डाटा सेंटर स्थापित स्थापित करेगी। अडानी ग्रुप इस प्रोजेक्ट पर 2,500 करोड़ रुपये का निवेश करेगा। इस प्रोजेक्ट में 2,350 व्यक्तियों को रोजगार मिलेगा। इसके अलावा नोएडा अथॉरिटी ने 16,350 वर्ग मीटर का बड़ा प्लॉट एमएक्यू इंडिया प्राइवेट लिमिटेड को अलॉट किया है।

एमएक्यू दुनिया की अग्रणी आईटी और आईटीईएस कंपनियों में एक है। कंपनी इस प्लॉट पर एक आईटी प्रोजेक्ट लगाएगी। इस पर कंपनी 250 करोड़ रुपये का निवेश करेगी। एमए क्यू को सेक्टर-145 में प्लाट एलॉट किया गया है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी नोएडा में डेटा सेंटर तथा साफ्टवेयर आदि के क्षेत्र में निवेश की पहल करने वाले निवेशकों की हर संभव मदद करने के निर्देश टीम -9 की बैठक में अधिकारियों को दिए।