उत्तर प्रदेश के 33 जिलों में Covid का एक भी एक्टिव केस नहीं - नवनीत सहगल

उत्तर प्रदेश के 33 जिलों में Covid का एक भी एक्टिव केस नहीं - नवनीत सहगल

अपर मुख्य सचिव ‘सूचना’ नवनीत सहगल ने बताया कि मुख्यमंत्री के 3टी ट्रेस, टेस्ट और ट्रीट अभियान के नियोजित प्रयास से प्रदेश में कोरोना संक्रमण काफी कम हो गया है। अन्य प्रदेशों में कोविड के केस बढ़ रहे है। उन्होंने बताया कि 3टी के कारण ही 30 अप्रैल, 2021 के एक्टिव मामले 3,10,783 से घटकर मात्र 191 हो गये है तथा 30 अप्रैल के प्रतिदिन कोविड केस 38 हजार से घटकर 10 हो गये है। प्रदेश के 33 जिलों में कोविड का एक भी एक्टिव केस नहीं है।

विगत दिवस हुई कोविड टेस्टिंग में 67 ज़िलों में संक्रमण का कोई भी नया केस नहीं मिला। सर्विलांस के माध्यम से सरकारी मशीनरी द्वारा उत्तर प्रदेश की 24 करोड़ की जनसंख्या में से अब तक लगभग 17.24 करोड़ से अधिक लोगों से उनका हालचाल जाना गया है। लक्षणयुक्त व्यक्तियों का टेस्ट कराकर संक्रमण होने पर लगभग 16 लाख से अधिक निःशुल्क मेडिकल किट भी बांटी गयी है। प्रदेश में सक्रिय मामले कम होने पर भी कोविड-19 के टेस्ट करने की संख्या घटाई नहीं जा रही हैं। कोविड संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए समय से पहचान व इलाज जरूरी है। कल एक दिन में 2,30,740 कोविड टेस्ट किये गये है, अब तक 7,44,95,406 कोविड टेस्ट किये गये है जो कि देश में सर्वाधिक है।

 उन्होंने बताया कि कोविड वैक्सीनेशन का कार्य निरन्तर किया जा रहा है। प्रदेश में पहली डोज 7,08,26,725 तथा दूसरी डोज 1,38,93,983 तथा कुल 8,47,20,708 डोजें लगायी गयी हैं, जोकि देश में सर्वाधिक है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में 555 के सापेक्ष अब तक 400 ऑक्सीजन प्लांट क्रियाशील हो चुके हैं।

नवनीत सहगल ने बताया कि मुख्यमंत्री द्वारा बरसात के मौसम को देखते हुए डेंगू, मलेरिया व अन्य वायरल बीमारियों के संदिग्ध मरीजों की पहचान के लिए जारी प्रदेशव्यापी सर्विलांस कार्यक्रम को और प्रभावी बनाये जाने के निर्देश दिये गये है। मुख्यमंत्री ने कहा है कि डोर-टू-डोर सर्वेक्षण के दौरान बुखार/दस्त/डायरिया आदि की जरूरी दवाइयां वितरित की जाएं। बेड, दवाइयों की पर्याप्त उपलब्धता बनाए रखी जाए तथा साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाए।

सरकारी अस्पतालों में सभी मरीजों के निःशुल्क उपचार की व्यवस्था की गयी है। उन्होंने बताया कि 19 सितंबर से मुख्यमंत्री आरोग्य मेला का आयोजन पुनः प्रारंभ किया जा रहा है। मुख्यमंत्री आरोग्य मेला के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य एवं चिकित्सा सुविधाओं/सेवाओं की सुगम उपलब्धता सुनिश्चित कराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। मुख्यमंत्री आरोग्य मेला के माध्यम से 40 लाख से अधिक अंत्योदय कार्डधारक परिवार लाभान्वित होंगे।

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये है कि बिजली बिल बकाये के एकमुश्त समाधान के संबंध में योजना यथाशीघ्र प्रस्तुत किया जाए। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये है कि सभी जिलाधिकारी प्रत्येक माह उद्योग बन्धु की स्थानीय स्तर पर बैठक करे। उन्होंने बताया कि भारत सरकार द्वारा घोषित नेशनल इंस्टिट्यूशनल रैंकिंग फ्रेमवर्क में प्रदेश के चार चिकित्सा संस्थानों को शीर्ष 15 में स्थान मिला है। मुख्यमंत्री ने संस्थान के निदेशक व कुलपतियों को बधाई दी है व कहा है कि यह रैंकिंग अन्य संस्थानों के लिए प्रेरणा देने वाली होगी, जबकि इन संस्थानों को और बेहतर प्रयास करने के लिए प्रोत्साहित करेगी।

0Comments