होम > राज्य > उत्तर प्रदेश / यूपी

उत्तर प्रदेश में कोरोना की रोकथाम के लिए टेस्टिंग में कमी नहीं

उत्तर प्रदेश में कोरोना की रोकथाम के लिए टेस्टिंग में कमी नहीं

कोरोना संक्रमण के मामलों में कमी के बाद भी राज्य में टेस्टिंग जोरशोर से जारी है। टेस्टिंग के जरिए ही कोरोना संक्रमण की रफ्तार को कम करने का प्रयास उत्तर प्रदेश सरकार कर रही है। यही कारण है कि राज्य में टेस्टिंग करने में किसी तरह की कोताही नहीं बरती जा रही है।


इस संबंध में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य के अपर मुख्य सचिव अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्याथ के निर्देशों के अनुसार प्रदेश में बड़ी संख्या में संक्रमण कम होने के बावजूद, टेस्टिंग कम नहीं की जा रही है। बीते 24 घंटों यानी एक दिन में कुल 2,51,265 सैम्पल की जांच की गई है। राज्य भर के अलग अलग जनपदों से 1,31,973 सैम्पल आरटीपीसीआर टेस्टिंग के लिए भेजे गये है। 


प्रदेश में अब तक कुल 6,55,02,631 सैंपल की जांच की गई है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के 32 नये मामले आये हैं। प्रदेश में विगत 24 घंटे में 48 लोग तथा अब तक कुल 16,84,973 लोग कोविड-19 से ठीक हो चुके हैं।


कोविड-19 से ठीक होने का प्रतिशत 98.6 चल रहा है। प्रदेश में कोरोना के कुल 712 एक्टिव मामले हैं, जिनमें से 452 लोग होम आइसोलेशन में हैं। प्रदेश में प्रतिदिन की संक्रमण दर 0.01 प्रतिशत के आस-पास है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में सर्विलांस टीम के माध्यम से 3,58,66,599 घरों के 17,24,12,115 जनसंख्या का सर्वेक्षण किया गया


राज्य में कोविड वैक्सीनेशन का कार्य लगातार किया जा रहा है। प्रदेश में बीते 24 घंटों में 8,21,468 वैक्सीन की डोज दी गयी है। कल तक पहली डोज 3,99,11,639 दी गई है जो आज आज 04 करोड़ से अधिक हो गई है। दूसरी डोज 76,97,281 तथा अब तक कुल 4,76,08,920 डोजें लगायी गयी हैं। 


उन्होंने बताया कि साप्ताहिक संक्रमण दर 3 प्रतिशत से अधिक वाले प्रदेशों से उत्तर प्रदेश में आने वाले नागरिकों के लिए बीते चार दिन की आरटी पीसीआर टेस्ट रिपोर्ट या कोविड टीकाकरण का प्रमाण पत्र जरूरी है। सभी लोगों को सावधानी बरतने की आवश्यकता है। कोविड संक्रमण अभी पूरी तरह समाप्त नहीं हुआ है। इसलिए सभी लोग कोविड अनुरूप  आचरण का पालन करे। टीकाकरण के बाद भी कोविड प्रोटोकॉल का पालन अवश्य करें।


0Comments