भारत के दौरे पर सऊदी के विदेश मंत्री, तालिबान व अफगानिस्तान पर हो सकती है बात

भारत के दौरे पर सऊदी के विदेश मंत्री, तालिबान व अफगानिस्तान पर हो सकती है बात

सऊदी अरब के विदेश मंत्री प्रिंस फैसल बिन फरहान अल सऊद (Prince Faisal bin Farhan Al Saud) अफगानिस्तान में सामने आई स्थिति पर चर्चा करने के लिए इस सप्ताह के अंत में भारत आ सकते हैं। 

मिडिल ईस्ट में भारत के करीबी सहयोगी सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात को अफगानिस्तान की सुरक्षा को ले​कर फिक्र हैं। इसके साथ ही उन्हें तालिबान शासन के साथ वैश्विक जिहादी नेटवर्क के संबंधों की भी चिंता है। 

कतर, तुर्की और पाकिस्तान द्वारा तालिबानी शासन का समर्थन करने में निभाई गई सक्रिय भूमिका से भी ये दोनों देश चिंतित हैं। कतर काबुल हवाई अड्डे के संचालन के तकनीकी पक्ष को संभाल रहा है, जबकि तालिबान अभी भी तुर्की सेना को हवाई अड्डे की पूरी सुरक्षा सौंपने की जिम्मेदारी पर विचार कर रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 3 सितंबर को टेलीफोन पर क्राउन प्रिंस शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान के साथ अफगानिस्तान की स्थिति पर चर्चा की थी। विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने 30 अगस्त को संयुक्त अरब अमीरात के राष्ट्रपति के राजनयिक सलाहकार डॉ. अनवर गर्गश की मेजबानी की थी और काबुल में संकट की स्थिति पर विचारों का आदान—प्रदान किया था।

अब इसी संदर्भ में सऊदी के विदेश मंत्री का 19 सितंबर को भारत आने का कार्यक्रम है। प्रिंस फैसल इस दौरान विदेश मंत्री जयशंकर और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के साथ बैठक में शामिल हो सकते हैं और प्रधानमंत्री मोदी से भी उनके मुलाकात करने की उम्मीद है।

0Comments