होम > राज्य > उत्तर प्रदेश / यूपी

क्यों पूजनीय है मुजफ्फरनगर का पंचमुखी महादेव मंदिर?

क्यों पूजनीय है मुजफ्फरनगर का पंचमुखी महादेव मंदिर?

संबलहेड़ा उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले की जानसठ तहसील का एक प्राचीन गांव है। प्राचीन पंचमुखी महादेव मंदिर, जो नेपाल के पशुपति नाथ मंदिर का सिद्धपीठ है, संबलहेड़ा गांव में स्थित है। यह मंदिर एशिया में तीसरे स्थान पर है और इस मंदिर के समीप फलों का एक बगीचा है।

यह मंदिर नेपाल के पशुपतिनाथ मंदिर जितना ही पुराना है। इस मंदिर में बहुत कीमती पत्थर कसौटी से बना एक बहुत ही सुंदर पंचमुखी शिवलिंग विराजमान है। इस मंदिर में मां गंगा, गणेश गौरी, लक्ष्मी-नारायण और गरुण देवता की प्रतिमा भी विराजमान है। महाशिवरात्रि, नवरात्र, श्री कृष्ण जन्माष्टमी जैसे हर त्योहार के अवसर पर देश भर से भक्त भगवान शिव की आराधना के लिए इस मंदिर में आते हैं। इन अवसरों पर ग्रामीणों द्वारा सामूहिक रूप से भंडारे का आयोजन किया जाता है।

पंचमुखी महादेव मंदिर में भगवान शिव की तीन स्वरूपों (भगवान विष्णु, भगवान शिव और प्रभु श्रीराम) में उपासना की जाती है। भगवान शिव असाधरण स्वरूप वाले तथा ऐसे आराध्य हैं जिनकी उपासना से समस्त मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं। शिवलिंग के पांच मुख सृष्टि के पांच तत्व अग्नि, वायु, आकाश, पृथ्वी और जल का प्रतीक है।

मुजफ्फरनगर सड़क मार्ग और रेलवे नेटवर्क से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। राष्ट्रीय राजमार्ग 58 भी मुजफ्फरनगर शहर से होकर गुजरता है। मुजफ्फरनगर नियमित ट्रेनों के माध्यम से अन्य प्रमुख शहरों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। मुजफ्फरनगर (MOZ), कहतौली, मंसूरपुर, जादोदा नारा, रोहाना, बामनहेरी मुजफ्फरनगर के प्रमुख रेलवे स्टेशन हैं। मुजफ्फरनगर का निकटतम हवाई अड्डा देहरादून हवाई अड्डा, देहरादून लगभग 98 किमी और इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा, नई दिल्ली लगभग 105 किमी दूरी पर है।