होम > राज्य > बिहार

बिहार में Makar Sankranti पर नहीं पकी 'चूड़ा दही भोज' की सियासत

बिहार में Makar Sankranti पर नहीं पकी 'चूड़ा दही भोज' की सियासत

पटना | बिहार (Bihar) में कोरोना संक्रमण की मार सियासत पर भी देखने को मिल रही है। मकर संक्रांति ( Makar Sankranti ) के मौके पर प्रत्येक साल राजधानी में 'चूड़ा दही भोज' ( Chuda Dahi Bhoj ) को लेकर जमकर सियासत होती थी, लेकिन कोरोना संकट के कारण इस बार दिग्गज नेताओं के घर पर चूड़ा-दही के भोज का आयोजन नहीं होने के कारण चर्चित सियासी माहौल बदला बदला सा नजर आ रहा है।

 

मकर संक्रांति के दिन दही-चूड़ा भोज के लिए चर्चित जनता (युनाइटेड) के वरिष्ठ नेता वशिष्ठ नारायण सिंह के आवास पर इस साल मकर संक्रांति पर चहल पहल नहीं दिख रही है। इस साल कोरोना प्रभाव के कारण यहां चूड़ा दही भोज का आयोजन स्थगित कर दिया गया है। नारायण सिंह वर्षों से मकर संक्रांति के मौके पर चूड़ा दही भोज का आयोजन करते रहे है, जिसमे राज्य के दिग्गज नेताओं के अलावे आम कार्यकर्ता तक जुटते थे।


कोरोना के प्रभाव को देखते हुए इस साल पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ( Rabri Devi ) आवास में भी मकर संक्रांति पर भोज का आयोजन नहीं किया गया। RJD प्रमुख  लालू प्रसाद यादवके छोटे बेटे तेजस्वी यादव की हाल में ही शादी हुई है और लालू की छोटी बहू राजश्री यादव की परिवार के बीच यह पहली मकर संक्रांति है। ऐसे में लोगों को इस बात का इंतजार था कि लालू की नई बहू के घर आने पर बड़ा आयोजन करेंगे। लेकिन, कोरोना के कारण यह संभव नहीं हुआ।


लालू यादव ( Lalu Yadav ) का पूरा परिवार दिल्ली में मकर संक्रांति मना रहा है। लालू प्रसाद ने आम लोगों को मकर संक्रांति के मौके पर शुभकामना संदेश दिया है कि लोग अपने-अपने घर पर ही मकर संक्रांति का त्यौहार आपसी प्रेम और भाईचारे के साथ मनाएं।


आपको बता दें कि बिहार की राजनीति में मकर संक्रांति के दौरान चूड़ा दही का भोज देने की परंपरा सालों पुरानी है। इस भोज पर सियासत के जानकारों की भी नजर रहती थी। इस भोज के जरिए बिहार के राजनीतिक समीकरण भी बदलते देखे गए हैं। 


मकर संक्रांति के मौके पर राबड़ी देवी आवास पर दही-चूड़ा का भोज राजनीतिज्ञों के साथ कार्यकर्ताओं के लिए हमेशा खास रहा है। लालू-राबड़ी आवास में मनाया जाने वाले चूड़ा-दही के भोज में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से लेकर बड़े नेता पहुंचते रहे हैं। प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय सदाकत आश्रम में भी इस साल चूड़ा दही भोज का आयोजन नहीं किया गया है।


कोरोना की तीसरी लहर की चपेट में कई नेता भी आए और वे संक्रमित पाए गए है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ( CM Nitish Kumar ) भी कोरोना संक्रमित हो गए हैं। राज्य के कम से कम 9 मंत्री इस बार कोरोना पॉजिटिव पाए गए।