होम > राज्य

बिजनौर : लगातार हो रही बारिश से जनजीवन पूरी तरह अस्त-व्यस्त, कई जगह जलभराव |

बिजनौर : लगातार हो रही बारिश से जनजीवन पूरी तरह अस्त-व्यस्त, कई जगह जलभराव |

बिजनौर: लगातार हो रही बारिश अब आफत बनने लगी है। जिससे जनजीवन पूरी तरह अस्त-व्यस्त रहा। जिले में तीन जगहों पर मकानों की छत गिरी है। छत गिरने से एक महिला घायल हुई। उधर, हल्दौर के वाजिदपुर में सड़कों और कई घरों में पानी भरा हुआ है। पिछले चार दिनों से पहाड़ी और मैदानी इलाकों में हो रही बारिश से गंगा और उसकी सहायक नदियों में उफान बना हुआ है। रविवार को हरिद्वार के भीमगौडा बैराज से 87 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा गया। बिजनौर बैराज पर जलस्तर 219 मीटर बना हुआ है जोकि खतरे के निशान से एक मीटर दूर है। बिजनौर बैराज से गंगा में 63 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा गया। किसानों की खेतों में लहलहाती फसलें जलमग्न हो गई हैं। उधर, डीएम के आदेश पर नायब तहसीलदार ने रविवार को सिंचाई विभाग के अधिकारियों के साथ गांव नंदगांव, नाथाडोई, हरेवली का दौरा किया। नायब तहसीलदार अजय कुमार सिंह ने बताया कि अब तक स्थानीय क्षेत्र में करीब 70-75 मिमी वर्षा रिकार्ड की गई। खो नदी में करीब 40 हजार क्यूसेक पानी बढ़ा है। हल्दौर के गांव वाजिदपुर में आधा दर्जन लोगों के घरों में तालाब का पानी घुस गया। कई परिवार पानी से बचाव के लिए अपने पड़ोसियों के घरों पर शरण लिए हुए हैं। ग्रामीणों ने तालाब की बाउंड्री वॉल बड़ी करवाए जाने और पानी की निकासी कराए जाने की मांग को लेकर डीएम से मिलने का निर्णय लिया है। एसडीएम मनोज कुमार सिंह ने बताया कि उनके स्तर से राजस्व विभाग के अधिकारियों और कर्मचारियों को अलर्ट रहने के निर्देश दिए गए हैं। एसडीएम ने बताया कि नहटौर के गांव रायपुर लकड़ा हलके लेेखपाल ने सूचना दी कि इस गांव में आजाद के मकान की छत बारिश के कारण झुक गई है। छत की एक बल्ली के टूटने से बारिश का पानी मकान में जमा होने से उसका सारा सामान नष्ट हो गया है। हिंदू इंटर कॉलेज के बराबर में स्थित एक खेल मैदान पर वर्षा का पानी लबालब भर जाने के कारण प्रतिदिन दौड़ लगाने वाले व खेलने आने वाले युवाओं को काफी निराशा का सामना करना पड़ा।