होम > राज्य > दिल्ली

छठ पूजा मनाने का फैसला केंद्र सरकार की गाइडलाइंस पर डिसाइड होगा : गोपाल राय

छठ पूजा मनाने का फैसला केंद्र सरकार की गाइडलाइंस पर डिसाइड होगा : गोपाल राय

नई दिल्ली। आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता गोपाल राय ने कहा कि केंद्र सरकार के निर्देश की वजह से छठ पूजा के सार्वजनिक आयोजन में कोविड गाइडलाइंस अनिवार्य हैं। देश में राष्ट्रीय आपदा अधिनियम लागू होने के कारण केंद्र सरकार के निर्देश पर ही राज्य सरकार सार्वजनिक छठ पूजा आयोजन में कोविड प्रोटोकॉल से छूट दे सकती है। पिछले साल कोविड-19 महामारी के कारण केंद्र सरकार की गाइडलाइन आयी कि छठ पूजा नहीं करवाई जानी चाहिए। एमसीडी से भी भाजपा अब जा रही है, छठ पूजा के बहाने दोबारा राजनीति को चमकाने की भाजपा कोशिश कर रही है।

उन्होंने कहा कि केजरीवाल सरकार ने केंद्र सरकार को पत्र लिखा है कि छठ पूजा को लेकर गाइडलाइंस स्पष्ट की जाएं। भाजपा को छठ पूजा की इतनी चिंता है तो आज तक गाइडलाइन जारी क्यों नहीं की? दिल्ली में जब भाजपा की सरकार थी तो छठ पूजा नहीं कराती थी, कांग्रेस सरकार सिर्फ 68 जगहों पर छठ पूजा कराती थी, 'आप' सरकार ने 1068 जगहों पर पूजा करवाई।

दिल्ली के पर्यावरण मंत्री ने कहा कि दिल्ली के अंदर सबसे पहले भारतीय जनता पार्टी की सरकार थी। तब छठ पूजा होती नहीं थी। भाजपा छठ पूजा नहीं कराती थी। उसके बाद कांग्रेस पार्टी की सरकार बनी। जिसमें 68 जगहों पर छठ पूजा शुरू हुई। आम आदमी पार्टी की सरकार बनने के बाद छठ पूजा स्थलों की संख्या बढ़ रही है। आम आदमी पार्टी ने आखिरी बआर 1068 जगहों पर पूजा करवाई है। पिछले साल कोविड-19 महामारी के कारण केंद्र सरकार की गाइडलाइन आयी कि छठ पूजा नहीं करवाई जानी चाहिए।

केंद्र सरकार ने स्वास्थ्य विभाग और एक्सपर्ट की राय गाइडलाइन जारी की थी कि सबसे ज्यादा कोरोना वायरस पानी के कनेक्शन से फैलता है। छठ पूजा पानी में खड़ा होकर की जाती है। इसलिए केंद्र सरकार की तरफ से पिछली बार गाइडलाइन दी गई थी कि घर में रह करके लोग पूजा करें। जबकि भारतीय जनता पार्टी छठ पूजा को लेकर के राजनीति करने की कोशिश कर रही है। भाजपा को पूर्वांचलियों के सम्मान की चिंता कभी नहीं थी और ना आज है। भाजपा राजनीति इसलिए कर रही है उसे लग रहा है कि एमसीडी चुनाव में डूबते को तिनके का सहारा शायद मिल जाए।

उन्होंने कहा कि एमसीडी से भारतीय जनता पार्टी जा रही है। पूरी तरह से लोग भाजपा के खिलाफ है। पूरी दिल्ली को भाजपा ने कूड़ा-कूडा कर दिया है। पिछले 15 सालों में भाजपा ने कूड़े का पहाड़ दिया है। जिसकी वजह से दिल्ली भारतीय जनता पार्टी की सरकार को बदलना चाहती है। उनको लगता है कि छठ पूजा के बहाने दोबारा अपनी राजनीति को चमकालेंगे। यह राजनीति का मसला नहीं है, बल्कि स्वास्थ्य का मसला है। पूर्वांचल के लोगों के विकास की जिम्मेदारी आम आदमी पार्टी ने ली है। पूर्वांचल के लोगों के छठ पूजा पर्व को धूमधाम से मनाने का भी काम किया है। अब पूर्वांचल के लोगों की जिंदगी को भी बचाने की जिम्मेदारी भी हमारी सरकार ने ली है।

गोपाल राय ने कहा कि छठ पूजा पर्व को मनाने का फैसला केंद्र सरकार की गाइडलाइंस और एक्सपर्ट की राय पर डिसाइड होगा। इसीलिए केजरीवाल सरकार ने केंद्र सरकार को पत्र  लिखा है कि इसपर गाइडलाइंस स्पष्ट की जाएं। हम चाहते हैं कि गाइडलाइंस के मुताबिक पूजा हो। पानी से संक्रमण फैलने को लेकर पहले जो  एडवाइज आई थी, उस पर हम केंद्र सरकार की नई राय की उम्मीद कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने मनोज तिवारी को जिस तरह से विधानसभा चुनाव के बाद साइड किया, उसके बाद से वो उछल कूद कर रहे हैं। मुझे लगता है कि यह राजनीति का सही वक्त नहीं है। सांसद के नाते उनके जो कार्य हैं वह करें। भाजपा ने अभी तक छठ पूजा की गाइडलाइन क्यों जारी नहीं की। केंद्र सरकार क्यों हाथ पर हाथ रखे बैठा हुआ है। भारतीय जनता पार्टी की केंद्र में सरकार है और भाजपा को छठ पूजा की इतनी चिंता है तो आज तक गाइडलाइन जारी क्यों नहीं की। भाजपा हर चीज के लिए गाइडलाइन जारी करती है। डोर स्टेप डिलीवरी को लेकर कोर्ट गाइडलाइंस जारी करता है, उसके बाद भी गाइडलाइंस जारी कर देती है। छठ पूजा के लिए भाजपा क्यों गाइडलाइंस जारी नहीं करती है।

गोपाल राय ने कहा कि मनोज तिवारी भाजपा से सांसद हैं। वह अपने केंद्रीय मंत्रियों से क्यों नहीं बात करते हैं। भारतीय जनता पार्टी एमसीडी से भी जा रही है और उसे कोई बचा नहीं सकता है। पूर्वांचल के लोगों का काम भी आम आदमी पार्टी करती है। पूर्वांचल के लोगों का सम्मान भी आम आदमी पार्टी करती है।‌

उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी की जब दिल्ली में सरकार थी और भाजपा ने दिल्ली में छट नहीं मनाने दिया। पिछले दिनों पूर्वांचल के लोगों को दौड़ा-दौड़ा कर दिल्ली में पिटवा रही थी। भाजपा तब किस का सम्मान कर रही थी। भाजपा ने मनोज तिवारी के नेतृत्व में विधानसभा में सबसे ज्यादा अपनों का वोट पाया। मनोज तिवारी को खुद दोयम दर्जे का नेता मानते हुए हटा दिया। अब मनोज तिवारी के माध्यम से भाजपा पूर्वांचल के लोगों को वापस लाने की कोशिश कर रही है। भारतीय जनता पार्टी की चाल, चिंतन और चरित्र पूर्वांचल के लोगों को लेकर के क्या रहा है, यह सभी लोग जानते है।

(मेधज न्यूज़/श्री राम शॉ)  


दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कुछ यूँ बताया पराली की समस्या का जड़ से समाधान

धर्मांतरण रोकने के लिए अविलंब कठोर कानून बनाए केंद्र सरकार : विहिप

0Comments