होम > राज्य > दिल्ली

दिवाली की रात दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण का स्तर काफी ऊपर पहुंचा

दिवाली की रात दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण का स्तर काफी ऊपर पहुंचा

नई दिल्ली | प्रतिकूल मौसम की स्थिति, पंजाब और हरियाणा से खेतों में आग लगने की संख्या में वृद्धि, और दिल्ली-एनसीआर के निवासियों द्वारा पटाखों का उपयोग एक घातक संयोजन साबित हुआ, जिससे हवा की गुणवत्ता पीएम 2.5 सांद्रता के साथ 'खतरनाक' स्तर 800 से 1,700 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर रेंज में पहुंच गई। दिल्ली विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं के एक विश्लेषण में कहा गया है, "पीएम 2.5 की खतरनाक श्रेणी 4 नवंबर, दिवाली की रात को देखी गई थी। दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति (डीपीसीसी) और केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के सभी पर्यवेक्षक स्टेशनों ने पीएम 2.5 की सीमा लगभग 800 से 1,700 माइक्रोग्राम प्रति घन मीटर दिखाई है। गुरुवार को रात 8 बजे से शुक्रवार सुबह 5 बजे तक, आधी रात के बाद प्रदूषण चरम पर रहा।"


राजधानी के द्वारका, जहांगीरपुरी, आर.के. पुरम, नेहरू स्टेडियम और आनंद विहार ने शुक्रवार की आधी रात और तड़के के दौरान 1,400-1,700 माइक्रोग्राम प्रति मीटर क्यूब का अत्यधिक उच्च मान दिखाया।


दिल्ली विश्वविद्यालय के राजधानी कॉलेज में भौतिकी और पर्यावरण, रेडियो और वायुमंडलीय प्रयोगशाला के प्रोफेसर एस.के. ढाका, जो अर्थ रूट फाउंडेशन के मानद अध्यक्ष भी हैं, ने अपनी टीम के साथ पार्टिकुलेट मैटर डेटा का विश्लेषण और अवलोकन किया।


प्रदूषक माप और संबंधित मुद्दों पर काम करना, दिल्ली एनसीआर में प्रदूषकों को मापने का काम प्रोफेसर सचिको हयाशिदा के साथ आरआईएचएन क्योटो (जापान) की आकाश परियोजना का एक हिस्सा है।


दिल्ली सरकार द्वारा रात 8 बजे से 10 बजे के बीच ही हरे पटाखों का उपयोग करने के दिशा-निर्देश जारी किए जाने के बावजूद प्रदूषण के आंकड़ों से पता चला है कि लोगों ने सभी श्रेणियों के पटाखे फोड़े और इस प्रकार प्रदूषण को पीएम 2.5 तक ले गए।


विश्लेषण से पता चला है कि 3 नवंबर को इसी समय की तुलना में, पार्टिकुलेट मैटर का स्तर 4-5 गुना तक बढ़ गया, जबकि सल्फर डाइऑक्साइड और नाइट्रोजन डाइऑक्साइड आदि सहित अन्य गैसीय प्रदूषकों में 5 से 10 गुना की वृद्धि हुई।

दिल्ली में दिवाली बाद बढ़े प्रदूषण पर तेज हुई राजनीति

पलूशन पर प्रहार : एनसीआर में पराली के प्रदूषण से पार पाने की चुनौती शुरू