होम > राज्य > हरियाणा

चंडीगढ़ प्रशासन ने खोला सुखना फ्लडगेट

चंडीगढ़ प्रशासन ने खोला सुखना फ्लडगेट

जलस्तर खतरे के निशान पर पहुंचने के साथ ही रविवार तड़के सुखना झील के एक फ्लड गेट को खोल दिया गया।

सीबी ओझा, मुख्य इंजीनियर, यूटी प्रशासन ने कहा, “हम पिछले कुछ हफ्तों से जल स्तर पर नजर रख रहे हैं। यह खतरे के निशान 1,162.3 फीट पर पहुंच गया, जिससे हमें 1.15 बजे फ्लडगेट खोलने के लिए मजबूर होना पड़ा। पानी सुखना चो से होकर गुजरा। एहतियात के सभी उपाय किए गए। जारी किए गए पानी ने किसी भी आवासीय क्षेत्र को प्रभावित नहीं किया।

रविवार दोपहर तक फ्लडगेट खुले थे क्योंकि जल स्तर 1162 फीट नीचे जाना बाकी था। कुछ दिन पहले यूटी प्रशासन ने उसी के बारे में अलर्ट जारी किया था।

खतरे का निशान 1,163 फीट है, लेकिन आमतौर पर जब जल स्तर 1162 फीट से ऊपर पहुंच जाता है तो गेट खोल दिए जाते हैं।

इस बीच, सुखना झील से पानी कम होने से बलटाना और जीरकपुर के निचले इलाकों में बाढ़ जैसे हालात टल गए।

सुखना के जलस्तर पर नजर रखने के लिए इंजीनियरिंग विभाग ने टीमों का गठन किया है। 2021 में, जल स्तर में वृद्धि के कारण यूटी को तीन बार सुखना फ्लडगेट खोलना पड़ा।

जलग्रहण क्षेत्र में भारी बारिश के कारण इस साल जुलाई में खतरे का निशान करीब पहुंच गया है। पिछले साल अगस्त के अंत में जल स्तर खतरे के निशान को पार कर गया था। पिछले साल जब स्तर 1,162 फीट तक पहुंच गया था तब बाढ़ के भय से फाटकों को खोला गया था।

झील का जलस्तर खतरे के निशान को पार करने के बाद अगस्त 2020 में दो फ्लडगेट को खोलना पड़ा था। जिससे यह सुखना चो के साथ-साथ जीरकपुर के निचले इलाकों में व्यापक बाढ़ का कारण बना था।

इससे पहले 24 सितंबर, 2018 को, जलग्रहण क्षेत्र में लगातार बारिश ने अधिकारियों को 10 साल के अंतराल के बाद फ्लडगेट खोलने के लिए मजबूर किया था। सुखना चो झील के अतिरिक्त पानी को घग्गर नदी में ले जाती है।

अधिकारियों ने कहा कि सभी उपाय किए गए ताकि आसपास और निचले इलाकों में पानी के कारण बाढ़ की स्थिति पैदा न हो। प्रशासन समय-समय पर मोहाली और पटियाला को स्थिति से अवगत कराता रहा।