होम > राज्य > हिमाचल प्रदेश

खाद्य उत्पादों का परीक्षण अब होगा हिमाचल प्रदेश में, जल्द बनेगी प्रयोगशाला

खाद्य उत्पादों का परीक्षण अब होगा हिमाचल प्रदेश में, जल्द बनेगी प्रयोगशाला

शिमला| फलों और सब्जियों की गुणवत्ता की जांच करना बेहद महत्वपूर्ण है। हिमाचल प्रदेश के उत्पादक अपने फलों और सब्जियों के जैविक परीक्षण को करा सकें इसके लिए राज्य में खाद्य परीक्षा प्रयोगशाला की स्थापना की जाएगी।


इस संबंध में केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्रालय की सहायता से हिमाचल प्रदेश के सोलन शहर में एक खाद्य परीक्षण प्रयोगशाला की स्थापित होगी। एक बयान में कहा गया है कि शूलिनी लाइफ साइंसेज प्राइवेट लिमिटेड 2.85 करोड़ रुपये के परिव्यय के साथ स्थापित किया जाएगा।


प्रयोगशाला निदेशक विशाल आनंद ने कहा, "राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय मानकों को पूरा करने के लिए उपभोग के उद्देश्यों के लिए भोजन की सुरक्षा निर्धारित करने के लिए यह आवश्यक है।"


लैब सभी वाणिज्यिक खाद्य प्रसंस्करण उद्योगों और वाणिज्यिक खाद्य निर्माण इकाइयों के गुणवत्ता परीक्षण के लिए उपलब्ध होगी।


यह प्रयोगशाला सार्वजनिक उपभोग के लिए उपलब्ध कराए जाने से पहले खाद्य उत्पादों और उनके घटकों के वैज्ञानिक विश्लेषण की पेशकश करेगी। प्रयोगशाला आधुनिक उपकरणों जैसे गैस क्रोमैटोग्राफी मास स्पेक्ट्रोमेट्री, अल्ट्रा-हाई परफॉर्मेंस लिक्विड क्रोमैटोग्राफी, इंडक्टिवली कपल्ड प्लाज्मा-ऑप्टिकल एमिशन स्पेक्ट्रोमीटर आदि से लैस होगी।


प्रयोगशाला जल्द ही खाद्य उत्पादों के एनएबीएल मान्यता प्राप्त प्रमाणीकरण की पेशकश करेगी।