होम > राज्य > कर्नाटक

कर्नाटक के SDM मेडिकल कॉलेज में फूटा कोरोना, 66 छात्र कोविड पॉजिटिव, शैक्षणिक संस्थान बंद

कर्नाटक के SDM मेडिकल कॉलेज में फूटा कोरोना, 66 छात्र कोविड पॉजिटिव, शैक्षणिक संस्थान बंद

बेंगलुरु: कर्नाटक (Karnataka) के धारवाड़ एसडीएम मेडिकल कॉलेज (SDM Medical College) के छात्रों के कोरोना संक्रमित होने के बाद, जिला प्रशासन ने कॉलेज से लगभग 500 मीटर की दूरी पर स्थित सभी शैक्षणिक संस्थानों में अवकाश घोषित कर दिया है। शुक्रवार को मामले बढ़कर 182 हो जाने के बाद हाई अलर्ट जारी कर दिया गया था। कॉलेज के 2,500 छात्रों और स्टाफ सदस्यों के परीक्षा परिणाम का इंतजार है।


उनमें से 66 का गुरुवार सुबह तक रिजल्ट पॉजिटिव आया था और परीक्षण के दूसरे चरण के परिणामों में 116 और में संक्रमण की पुष्टि हुई थी। जिला आयुक्त नितेश पाटिल ने बताया कि 17 नवंबर को सभागार में एक समारोह था, जहां दो दिन बाद एक विवाह समारोह भी हुआ। 25 नवंबर को वहां एक और समारोह आयोजित किया गया था। सभी उपस्थित लोगों से कोविड-19 की जांच कराने की अपील की गई है।


चूंकि सभी राज्यों के छात्र कॉलेज में पढ़ते हैं, इसलिए 182 मेडिकल छात्रों के माता-पिता को सलाह दी गई है कि अगर वे पिछले हफ्ते अपने बच्चों से मिले थे, तो वे खुद की भी जांच करवाएं। उन्होंने कहा, "हमें शनिवार तक कोविड की स्थिति पर एक स्पष्ट तस्वीर मिल जाएगी। नमूनों का परीक्षण DIMHANS, KIMS और SDM प्रयोगशालाओं में किया जा रहा है।"


कॉलेज सूत्रों के अनुसार 17 नवंबर को परिसर के एक सभागार में एक समारोह में शामिल होने के बाद छात्र संक्रमण की चपेट में आ गए। इस कार्यक्रम में करीब 200 छात्रों और कुछ अभिभावकों ने भी हिस्सा लिया था। उन्होंने कहा कि सभी प्रभावित मेडिकल छात्रों को पूरी तरह से टीका लगाया गया है और लक्षण गंभीर नहीं हैं।


उन्होंने कहा, अभी तक कॉलेज परिसर के बाहर और आसपास के क्षेत्रों में संक्रमण की कोई सूचना नहीं मिली है। जिला आयुक्त ने लोगों से अपील की है कि कोई भी लक्षण दिखाई देने पर तुरंत नजदीकी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में अपना परीक्षण कराएं। सभी को सावधानी बरतनी चाहिए और कोविड के दिशानिर्देशों का पालन करना चाहिए।"


परिसर के दो छात्रावासों को सील कर दिया गया है। संक्रमित छात्रों का उनके छात्रावास के कमरों में इलाज चल रहा है। आवाजाही पूरी तरह प्रतिबंधित है और संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए हर संभव उपाय किए जा रहे हैं।