होम > राज्य > उत्तर प्रदेश / यूपी

एकेटीयू में इन्क्युबेशन सेंटर्स के मैनेजर्स के लिए आयोजित हो रही है दो दिवसीय कार्यशाला

एकेटीयू में इन्क्युबेशन सेंटर्स के मैनेजर्स के लिए आयोजित हो रही है दो दिवसीय कार्यशाला

डॉ0 एपीजे अब्दुल कलाम प्राविधिक विश्वविद्यालय में बुधवार को इनोवेशन हब की ओर से बुधवार को इन्क्युबेशन सेंटर के मैनेजर्स के लिए दो दिवसीय कार्यशाला स्टेªटजी प्लानिंग कैपेसिटी बिल्डिंग फॉर मैनेजर्स इन्क्युबेशन रोडमैप का उद्घाटन हुआ।

इस मौके पर कुलपति प्रो0 प्रदीप कुमार मिश्र ने कहा कि इन्क्युबेशन सेंटर पर तैनात मैनेजर्स की जिम्मेदारी महत्वपूर्ण है। दूसरों को स्टार्टअप और इनोवेशन के लिए तैयार करने के साथ ही इन्क्युबेशन सेंटर को भी आत्मनिर्भर करने का काम मैनेजर्स को करना पड़ेगा। उन्होंने कहा कि इन्क्युबेशन सेंटर को स्टार्टअप बनाना होगा। उन्होंने कहा कि मैनेजर्स के लिए यह जरूरी है कि वो प्लानिंग के साथ उसका क्रियान्वयन भी करें। कहा कि स्थानीय समस्याओं का समाधान देने वाले आइडिया को आगे बढ़ायें। जिससे कि समाज को लाभ मिल सके।

बतौर मुख्य अतिथि हार्वर्ड विश्वविद्यालय अमेरिका के नवीन झा ने मैनेजर्स के विभिन्न टिप्स और सुझाव दिये। उन्होंने कहा कि इनोवेशन और स्टार्टअप को आगे ले जाने में इन्क्युबेशन मैनेजर्स की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। मैनेजर्स अपने आस-पास के नये आइडिया को न केवल आगे बढ़ाने का काम करते हैं बल्कि उन्हें प्रोत्साहित भी करते हैं। उन्होंने कहा कि मैनेजर्स को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि कोई भी आइडिया मरने न पाये। नये आइडिया को मैनेजर्स पूरी तरह से प्रोत्साहित करें। उन्हें नर्चर करें। जिसका फायदा आने वाले समय में मिलेगा। उन्होंने मैनेजर्स को स्टार्टअप के लिए साल भर का रोड मैप बनाने का सुझाव दिया। जिससे कि उस रोड मैप के आधार पर कार्य किया जा सके। एक सोच फाउंडेशन के डायरेक्टर अजय सुमन शुक्ला ने भी मैनेजर्स को कई सुझाव दिये। इस मौके पर कुलपति प्रो0 प्रदीप कुमार मिश्र ने इनोवेशन हब की एचआर पॉलिसी और इन्क्युबेशन सेंटर की स्टार्टअप पॉलिसी को भी लांच किया। कार्यशाला में कुलसचिव श्री सचिन सिंह, प्रो. संदीप तिवारी, प्रो0 बीएन मिश्रा, डॉ. अनुज शर्मा, महीप सिंह, रितेश सक्सेना सहित प्रदेश के इन्क्युबेशन सेंटर के मैनेजर्स मौजूद रहे।