होम > राज्य > उत्तर प्रदेश / यूपी

अभिनन्दन पर्व पुरस्कार वितरण समारोह

अभिनन्दन पर्व पुरस्कार वितरण समारोह

उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान द्वारा अभिनन्दन पर्व बाल साहित्य संगोष्ठी का आयोजन शुक्रवार, 25 नवम्बर, 2022 को पूर्वाह्न 11.00 बजे से हिन्दी भवन यशपाल सभागार में किया गया। पुरस्कार वितरण समारोह में सम्माननीय अतिथि के रूप में डॉ0 भवगवती प्रसाद द्विवेदी, पटना, संजीव जायसवाल ‘संजय‘, लखनऊ उपस्थित थे।

इस अवसर पर नौ बाल साहित्यकारों को सम्मानित किया गया। विमला रस्तोगी को सुभद्रा कुमारी चौहान महिला बाल साहित्य सम्मान, सोहन लाल द्विवेदी बाल कविता सम्मान से डॉ0 अजय प्रसून( अजय कुमार द्विवेदी), अमृत लाल नागर बाल कथा सम्मान से ममता नौगरैया, शिक्षार्थी बाल चित्राकला सम्मान से शिवाशीष शर्मा, लल्ली प्रसाद पाण्डेय बाल साहित्य पत्रकारिता सम्मान से संजय वर्मा, डॉ. रामकुमार वर्मा बाल नाटक सम्मान से डॉ0 भारतेन्दु मिश्र, कृष्ण विनायक फड़के बाल साहित्य समीक्षा सम्मान से अंजीव अंजुम, जगपति चतुर्वेदी बाल विज्ञान लेखन सम्मान से डॉ0 धीरेन्द्र बहादुर सिंह, उमाकान्त मालवीय युवा बाल साहित्य सम्मान से ललित मोहन राठौर ‘ललित शौर्य‘ को सम्मानित करते हुए प्रत्येक को रुपये इक्यावन हजार की धनराशि, उत्तरीय एवं प्रशस्ति पत्र से सम्मानित किया गया।

संजीव जायसवाल ‘संजय‘ ने कहा -बाल साहित्य लेखन अत्यन्त दायित्वपूर्ण कार्य है। इस दिशा में आगे बढ़ते हुए रचनाओं को कभी-कभी सम्पादकों की अस्वीकृति भी प्राप्त होती है, इस स्थिति से घबराना नहीं चाहिए वरन् अपने लेखन में सुधार करना चाहिए।

डॉ0 भगवती प्रसाद द्विवेदी ने कहा-बाल साहित्य की गौरवशाली परम्परा में नये-नये नाम जुड़ते जा रहें। बौद्धिकता की आड़ में बच्चों को मात्र शिक्षा से ही जोड़ा जा रहा। उन्हें बाल साहित्य की पुस्तकों से जोड़ना होगा।

कोई भी रचनाकार पुरस्कार के लिए नहीं लिखता वह अन्तः प्रेरणा से साहित्य सृजन करता है बाल साहित्य अपेक्षाकृत कम चर्चित रहा है, परन्तु वह बहुत अधिक महत्वपूर्ण है। बाल साहित्य विविध विधाओं में लिखा जा रहा है। बच्चों के लिए रचना करना अत्यन्त कठिन है। प्रेरक बाल साहित्य द्वारा बच्चों को संस्कारित करना हमारी परम्परा रही है। दादी-नानी की कहानियों की क्रम कुछ टूटा है जिससे बच्चों में संस्कार दिये जाने का महत्वपूर्ण कार्य कुछ बाधित हुआ है। यदि उत्कृष्ट बाल साहित्य किशोर मन तक पहुँचेगे तो उनका मन उल्लासित हो सकता है। बाल साहित्य भाषा की अतुलनीय सम्पदा है।

प्रधान सम्पादक, डॉ0 अमिता दुबे, उ0प्र0 हिन्दी संस्थान ने कहा- उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान द्वारा आयोजित बाल साहित्य संवर्द्धन योजना के अन्तर्गत अभिनन्दन पर्व पुरस्कार वितरण समारोह में विभिन्न विधाओं के बाल साहित्यकारों का स्वागत एवं अभिनन्दन करते हुए हम गौरवान्वित हैं। बाल साहित्य के सृजन में जितनी महत्वपूर्ण भूमिका रचनाकारों की है, उससे अधिक दायित्व बाल पत्रिकाओं के सम्पादक का भी है। संस्थान द्वारा प्रकाशित बालवाणी द्वैमासिक पत्रिका के माध्यम से हम बाल पाठकों के बीच जाते हैं और उसे सभी का स्नेह और सहयोग मिलता है। मीडिया कर्मियों, पत्रकार बन्धुओं के प्रति  भी हम आदर भाव व्यक्त करते हैं। श्री सर्वजीत सिंह मारवा द्वारा वाणी वन्दना प्रस्तुत की उनका भी आभार।