होम > राज्य > उत्तर प्रदेश / यूपी

सीएम बोले, किसी भी दशा में किसी भी किसान का बिजली का कनेक्शन नहीं काटा जाएगा

सीएम बोले, किसी भी दशा में किसी भी किसान का बिजली का कनेक्शन नहीं काटा जाएगा

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने सरकारी आवास पर भारतीय जनता पार्टी के ब्रज क्षेत्र के सांसदों, विधायकों एवं जिला अध्यक्षों के साथ संवाद किया। साथ ही, उनके क्षेत्रों के विकास के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त की। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार ने सभी वर्गों को ध्यान में रखते हुए जनकल्याणकारी योजनाएं संचालित की हैं, जिनका लाभ बिना भेदभाव के सभी जरूरतमंदों को मिल रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सकारात्मक भाव के साथ टीमवर्क प्रत्येक स्तर पर होना चाहिए। संगठन, जनप्रतिनिधियों, सांसदों व विधायकों के बीच बेहतर समन्वय स्थापित कर कार्य करें, जिससे बेहतर परिणाम सामने आएंगे। विधानसभा चुनाव के ठीक पहले बहुत सारे सुझाव आये हैं। इन सुझावों में सरकार के स्तर पर पहले से ही कार्यवाही आगे बढ़ी है। कुछ महत्वपूर्ण सुझावों पर कार्यवाही आगे बढ़ाने का कार्य किया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने प्रदेश के सभी 75 जनपदों में निर्बाध विद्युत आपूर्ति की व्यवस्था सुनिश्चित की है, जिसका परिणाम है कि किसानों को सिंचाई आदि में सहूलियत मिली है, जिससे उनकी उपज पर आने वाली लागत भी कम हुई है और उनकी आमदनी बढ़ी है। वर्तमान प्रदेश सरकार ने किसानों के हितों को ध्यान में रखते हुए यह सुनिश्चित किया है कि किसी भी दशा में किसी भी किसान का बिजली का कनेक्शन नहीं काटा जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि ऊर्जा विभाग बिजली बकायेदारों के लिए ओटीएस स्कीम शीघ्र ला रहा है। इसके माध्यम से बिजली बकायेदारों का निस्तारण कर दिया जाएगा। वर्तमान सरकार ने तकनीक के उपयोग पर विशेष बल दिया है, जिसके परिणामस्वरूप भ्रष्टाचार पर प्रभावी अंकुश लगा है, जिससे विकास की योजनाओं को गति मिली है। उन्होंने कहा कि किसानों को एमएसपी का पूरा लाभ मिले, इसके लिए राज्य सरकार पूरी प्रतिबद्धता के साथ कार्य कर रही है। किसानों से धान की खरीद निर्बाध रूप से की जा रही है तथा डीबीटी के माध्यम से उनके खातों में धनराशि अन्तरित की जा रही है।

उन्होंने कहा कि पूर्ववर्ती सरकारों में बड़ी संख्या में अवैध बूचड़खाने संचालित किये जा रहे थे। वर्तमान प्रदेश सरकार ने सत्ता में आते ही इन अवैध बूचड़खानों के साथ-साथ अवैध पशु तस्करी पर रोक लगाई है। निराश्रित गौआश्रय स्थल से जुड़ी तीन योजनाएं सरकार के स्तर पर संचालित हो रही हैं। पहली निराश्रित गोआश्रय स्थल की व्यवस्था करना, दूसरी सहभागिता योजना के अन्तर्गत किसानों को 4 गोवंश रखने की व्यवस्था, जिसके तहत इन किसानों को 900 रुपए प्रति गोवंश प्रति माह प्रदान किये जाते हैं और तीसरी कुपोषित परिवारों को भी निराश्रित गोआश्रय स्थलों से गोवंश उपलब्ध कराना है।

उन्होंने कहा कि सभी जनप्रतिनिधि अपने-अपने विधानसभा क्षेत्र में विशेष रूचि लेकर 100 से 200 कुपोषित परिवारों को चिन्हित करके निराश्रित गोआश्रय स्थल से एक-एक गाय एवं प्रतिमाह धनराशि उपलब्ध करवाएं, जिससे इन परिवारों के जीवन में भी खुशहाली आए।

मुख्मयंत्री ने कहा कि केन्द्र व राज्य सरकार ने विकास से सम्बन्धित अनेक कार्य किये हैं। इन विकास कार्यों, जनकल्याणकारी योजनाओं तथा उपलब्धियों से आमजन को अवगत कराया जाए। इस अवसर पर सांसदों व विधायकों ने अपने विचार तथा सुझावों को व्यक्त किया, जिसे मुख्यमंत्री ने पूरी गम्भीरता से सुना और उनके सुझावों पर कार्यवाही करने का आश्वासन दिया।

(मेधज न्यूज़/श्री राम शॉ)

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन . जानिए देश-विदेशमनोरंजनबॉलीवुडखेल जगतबिज़नेस और अपने प्रदेश, से जुड़ी खबरें।

यह भी पढ़ें- उप्र डेवलपमेण्ट फोरम ने किया मुंबई में रह रहे उप्र के लोगों को जोड़ने के लिए कार्यक्रम का आयोजन

यूपी: उपमुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा ने किया प्रधानमंत्री जन औषधि केंद्र का उद्घाटन

उत्तर प्रदेश में कोरोना पर नियंत्रण, लेकिन प्रशासन मुस्तैद : योगी ने दिए निर्देश

0Comments