होम > राज्य > उत्तर प्रदेश / यूपी

हैंडवाशिंग डे से पूर्व बताया गया हाथ धोने व स्वच्छता का महत्व

हैंडवाशिंग डे से पूर्व बताया गया हाथ धोने व स्वच्छता का महत्व

भारत की प्राचीन संस्कृति में भी साफ सफाई का विशेष महत्व रहा है। भारतीय संस्कृति में हाथ धोने की परंपरा हमेशा से रही है। हाथ धोने की आदत व साफ सफाई को लेकर पंचायती राज निदेशालय अलीगंज लखनऊ में बुधवार को ग्लोबल हैंडवाशिंग डे का आयोजन किया गया। 


इस दौरान निदेशालय में साबुन से हाथ धोकर साफ-सफाई व स्वच्छता के प्रति लोगों को जागरूक किया गया। यह जानकारी पंचायती राज के मिशन निदेशक राज कुमार ने दी। उन्होंने बताया कि वैश्विक महामारी कोविड-19 को ध्यान में रखते हुए साबुन से हाथ धोना व साफ-सफाई रखना अत्यंत महत्वपूर्ण है। 


उन्होंने बताया कि ग्लोबल हैंडवाशिंग डे का आयोजन प्रत्येक वर्ष 15 अक्टूबर को मनाया जाता हैं, परन्तु 15 अक्टूबर को विजयदशमी का सार्वजनिक अवकाश होने के कारण वर्ष 2021 में ग्लोबल हैंडवाशिंग डे का आयोजन 11 अक्टूबर से 13  अक्टूबर 2021 तक मनाने का निर्णय लिया गया था।


मिशन निदेशक ने बताया कि 11 अक्टूबर 2021 को विद्यालय के बच्चों व अध्यापकों द्वारा, 12 अक्टूबर 2021 को ऑगनवाड़ी केन्द्रों के बच्चों व कार्यकत्रियों द्वारा व 13 अक्टूबर को पंचायत भवन व सामुदायिक शौचालयों पर समुदाय के द्वारा हैंडवाशिंग करते हुए लोगों को जागरूक किया गया।


पंचायती राज निदेशालय में ग्लोबल हैंडवाशिंग डे का आयोजन के दौरान नोडल ऑफिसर योगेंद्र कटियार, स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) व संजय सिंह चौहान, स्टेट कंसलटेंट सहित अन्य विभागीय अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित थे।

0Comments