होम > राज्य > उत्तर प्रदेश / यूपी

Omicron: बिना जांच कराए किसी यात्री का यूपी में प्रवेश नहीं, सीएम योगी ने दिए निर्देश

Omicron: बिना जांच कराए किसी यात्री का यूपी में प्रवेश नहीं, सीएम योगी ने दिए निर्देश

लखनऊ: कोरोना वायरस के नए वैरिएंट को लेकर शासन की ओर से जीनोम सिक्वेंसिंग की व्यवस्था करने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि लखनऊ के केजीएमयू , पीजीआई, गोरखपुर, झांसी, मेरठ में तेजी से जीनोम सीक्वेंसिंग की व्यवस्था की जाए।

प्रदेश में बीते 24 घंटों में हुई एक लाख 53 हजार 569 सैम्पल की जांच में कुल सात संक्रमितों की पुष्टि हुई। इसी अवधि में तीन संक्रमित कोरोना मुक्त भी हुए। आज प्रदेश में कुल एक्टिव कोविड केस की संख्या 92 है। कोरोना वायरस के नए वैरिएंट को लेकर शासन की ओर से जीनोम सिक्वेंसिंग की व्यवस्था करने के मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि लखनऊ के केजीएमयू , पीजीआई, गोरखपुर, झांसी, मेरठ में तेजी से जीनोम सीक्वेंसिंग की व्यवस्था की जाए।

प्रदेश में पांच करोड़ तीन लाख अधिक लोगों को टीके की दोनों डोज देकर कोविड का सुरक्षा कवर प्रदान कर दिया गया है। 11 करोड़ 23 लाख लोगों ने टीके की पहली डोज प्राप्त कर ली है। यह संख्या टीकाकरण के लिए पात्र प्रदेश की कुल आबादी की लगभग 76.20 फीसदी से अधिक है। इस प्रकार प्रदेश में अब तक 16 करोड़ 27 लाख से अधिक कोविड वैक्सीन डोज लगाए जा चुके हैं। कोविड टेस्टिंग और टीकाकरण में उत्तर प्रदेश देश में शीर्ष स्थान पर है।

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि कोविड टीकाकरण को और तेज करने के लिए ठोस प्रयास की जरूरत है। घर-घर जाकर सर्वेक्षण किया जाए। अब तक पहली डोज न पाने लेने वालों की अलग सूची तैयार कराएं। जिनका दूसरा डोज ओवरड्यू हो गया हो उनकी पृथक सूची बनाई जाए। दिव्यांग, अक्षम, निराश्रित, वृद्ध जनों से संपर्क कर उनका टीकाकरण कराएं। सीएमओ स्तर से ग्राम प्रधानों, पार्षदों का सहयोग लिया जाए। प्रदेश भर में पब्लिक एड्रेस सिस्टम की मदद से जागरूक करने की कवायद को शुरु किया जाए। ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग वैक्सीन का डोज प्राप्त कर सकें। कोविड पर प्रभावी नियंत्रण बनाए रखने के लिए सावधानी और सतर्कता जरूरी है। विश्व के अनेक देशों में नए वैरिएंट के संक्रमित मिलने की संख्या में बढोतरी हो रही है। ऐसे में हमें बहुत सतर्कता-सावधानी की जरूरत है। 

उन्होंने कहा कि सभी जगहों पर मास्क को अनिवार्य कराएं। इसके अलावा दूसरे देशों और प्रदेशों से उत्तर प्रदेश आ रहे हर व्यक्ति की जांच जरूर की जाए। बस स्टेशन, रेलवे स्टेशन व एयरपोर्ट पर अतिरिक्त सतर्कता बरतने की जरूरत है, बिना किसी की जांच किए उसे बाहर न आने दिया जाए। केंद्र सरकार की तरफ से गाइडलाइंस को प्रभावी रूप से लागू किया जाए। पहले चरण में इंटरस्टेट कनेक्टिविटी वाले बस स्टेशन पर जांच को तेज़ी से बढ़ाते हुए अतिरिक्त सतर्कता बरतें।

 अब तक विभिन्न जिलों में कुल 525 ऑक्सीजन प्लांट क्रियाशील किये जा चुके हैं। शेष प्लान्ट की स्थापना का कार्य यथाशीघ्र पूरा किया जाए। प्रदेश की जनता को बेहतर सुविधा मिल सके इसके लिए परिवहन निगम की बसों को लेकर समीक्षा बैठक करें और बसों को जल्द से जल्द ठीक कराएं। प्रदेश के सभी कस्तूरबा गांधी विद्यालय, छात्रावास में सभी व्यवस्थाओं को ठीक किया जाए, इसको लेकर विभाग एक नोडल अधिकारी नियुक्त कर समीक्षा करे और जवाबदेही तय करें।
 
एसजीपीजीआई के दोनों कोविड अस्पताल होंगे शुरू

कोविड के नए वैरिएंट को लेकर एसजीपीजीआई में मरीजों को भर्ती करने की तैयारी शुरू कर दी गई है। संस्थान के ट्रॉमा में बने 254 और मुख्य भवन में बने 72 बेड वाले कोविड अस्पताल दोबारा शुरू की जाएंगे। मरीजों के बढ़ने पर पहले 72 बेड वाला अस्पताल क्रियाशील होगा, फिर ट्रॅामा सेंटर में मरीज भर्ती किए जाएंगे।