होम > राज्य > उत्तर प्रदेश / यूपी

रामायण सर्किट अयोध्या में पर्यटन विकास की योजनायें पूरी

रामायण सर्किट अयोध्या में पर्यटन विकास की योजनायें पूरी

पर्यटन मंत्रालय भारत सरकार की स्वदेश दर्शन एवं प्रासाद परियोजना के अंतर्गत प्रदेश में पर्यटन विकास की विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत रामायण सर्किट, अयोध्या बुद्धिष्ट सर्किट, कुशीनगर कपिलवस्तु एवं श्रावस्ती, वाराणसी फेज-1 व 2 तथा क्रूज बोट के संचालन की योजनाओं का क्रियान्वयन किया जा रहा है। 

इसके तहत अयोध्या में 12720.72 लाख रूपये लागत की 14 योजनाओं की शुरूआत की गयी थी। जिसे पूरा करने के लिए 11546.41 लाख रूपये की धनराशि अवमुक्त की गयी थी। इन योजनाओं पर अब तक 11577.82 लाख रूपये की धनराशि व्यय करके योजनाओं को पूरा करा लिया गया है।

यह जानकारी प्रदेश के पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री जयवीर सिंह ने देते हुए बताया कि स्वदेश दर्शन स्कीम के रामायण सर्किट के अंतर्गत अयोध्या में पर्यटन विकास की विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत रामकथा पार्क, पार्किंग साईट, ओपन एयर थियटर, लैण्डस्केपिंग, पाथ-वे, वाउण्ड्रीवाल, सोलर लाईट, सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट एवं स्टोन बेंच का कार्य 100 प्रतिशत पूरा कर लिया गया है।

जयवीर सिंह ने बताया कि इसके अलावा अयोध्या बस स्टैण्ड, दिगम्बर अखाड़ा का बहुउद्देशीय हाल, राम की पैड़ी, फसाड इल्युमिनेशन, स्टोन रेलिंग, साईनेज, सोलर लाईट, लैण्डस्केपिंग, पार्किंग, सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट, स्टोन बेंच, स्टोन प्लान्टर्स, गजीबो एवं स्टोन बोलार्ड, मल्टीलेबल पार्किंग, पंचकोशी परिक्रमा मार्ग पर यात्री शेड का निर्माण, सिटीवाईड इण्टरवेशन (वाटर कियॉस्क, सोलर लाईट, गजीबो, पुलिस बूथ, टॉयलेट ब्लाक, वॉच टावर साइनेज) का कार्य पूरा हो गया है।

इसके अतिरिक्त अयोध्या में स्ट्रीट रेजूवेनेशन (कोबेल स्टोन, टॉयलेट ब्लाक, स्टोन बोलार्ड, ड्रेनेज स्ट्रीट लाइट, वाटर कियॉस्क, सैण्ड स्टोन बेन्चेज सहित तुलसीदास उद्यान का सौन्दर्यीकरण कार्य) पूर्ण हो चुका है। इसके अतिरिक्त पेडस्ट्रियन स्ट्रीट (कोबेल स्टोन, स्ट्रीट लाईट, ड्रेन कवर) आदि का कार्य पूरा कर लिया गया है। 

पर्यटन मंत्री ने बताया कि अयोध्य विश्व प्रसिद्ध धार्मिक नगरी का स्वरूप ले रही है। इसके कारण देश-विदेश से आने वाले पर्यटकों को बुनियादी सुविधायें उपलब्ध कराने के लिए स्वदेश दर्शन स्कीम के रामायण सर्किट के तहत अयोध्या का समेकित पर्यटन विकास की योजनायें संचालित करके निर्धारित समय में पूरी कराई गयी हैं। संबंधित कार्यदायी संस्था राजकीय निर्माण निगम से भारत सरकार के प्रारूप पर क्लोजर रिपोर्ट तत्काल उपलब्ध कराने के लिए कहा गया है।

पर्यटन मंत्री ने बताया कि सिंचाई विभाग द्वारा गुफ्तार घाट का पर्यटन विकास लक्ष्मण किला घाट, लैण्डस्केपिंग एवं पार्क का विकास, पार्किंग, प्लान्टेशन गेट एवं चेनवर्क तथा ट्री गार्ड एवं सेट का निर्माण कार्य 95 प्रतिशत तक पूरा कर लिया गया है। सिंचाई विभाग से संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिये गये हैं कि तेजी से कार्य पूरा करके इसकी क्लोजर रिपोर्ट भारत सरकार द्वारा निर्धारित प्रारूप पर उपलब्ध करा दें। कार्यों में मानक गुणवत्ता, समयबद्धता का विशेष ध्यान रखा जाए। निर्माण कार्यों में अधोमानक सामग्री उपयोग किये जाने पर जवाबदेही सुनिश्चित की जायेगी।