होम > राज्य > उत्तर प्रदेश / यूपी

पीजीआई लखनऊ में अब मिलेगी टेली आईसीयू सुविधा, गंभीर मरीजों का होगा इलाज

पीजीआई लखनऊ में अब मिलेगी टेली आईसीयू सुविधा, गंभीर मरीजों का होगा इलाज

सार 
  • पीजीआई के टेली आईसीयू को दूसरे मेडिकल कॉलेजों की आईसीयू यूनिट से जोड़ा जाएगा 
  • प्रदेश के छह मेडिकल कॉलेज पीजीआई के टेली आईसीयू से दिसंबर तक जुड़ जाएंगे
  • गोरखपुर, कानपुर, मेरठ, प्रयागराज झांसी और आगरा के मेडिकल कॉलेज जोड़े जाएंगे
  • जल्द ही प्रदेश के 75 जनपदों में इस सुविधा का विस्तार किया जाएगा

लखनऊ | स्वास्थय के क्षेत्र में उत्तर प्रदेश किसी भी मेट्रो सिटी से पीछे नहीं है।  अब प्रदेश में इलाज़ के लिए किसी को भी दिल्ली या मुंबई का रुख नहीं करना पड़ता है।  योगी सरकार ने अब स्वास्थय व्यस्था में एक और मील का पाथेर पार केर लिया है।  लखनऊ में अब जल्द ही गंभीर रोगों का इलाज पीजीआई की टेली आईसीयू में मिलने लगेगा। 

इसके लिए तैयारियां तेज हो गई हैं। साथ ही पीजीआई के टेली आईसीयू को दूसरे मेडिकल कॉलेजों की आईसीयू यूनिट से भी जोड़ा जाएगा। इससे दूसरे जिले के मेडिकल कॉलेज में भर्ती गंभीर मरीजों को बेहतर इलाज मिल सकेगा। पीजीआई के निदेशक डॉ आरके धीमान ने बताया, "प्रदेश के छह मेडिकल कॉलेज के आईसीयू यूनिट पीजीआई के टेली आईसीयू से दिसंबर के पहले सप्ताह तक जुड़ जाएंगे। 

पहले चरण में छह मेडिकल कॉलेजों के लगभग 200 आईसीयू बेड पीजीआई से जुड़ेंगे, जिसमें 60 बेड पीजीआई, 40 बेड गोरखपुर और 20-20 बेड अन्य मेडिकल कॉलेज के होंगें। पीजीआई की टेली आईसीयू से गोरखपुर, कानपुर, मेरठ, प्रयागराज झांसी और आगरा के मेडिकल कॉलेज जोड़े जाएंगे। जल्द ही 75 जनपदों में इस सुविधा का विस्तार किया जाएगा।"

कोरोना काल की पहली लहर में पीजीआई की टेली मेडिसिन सुविधा से दूसरे जिलों के डॉक्टरों को कोविड के मरीजों का इलाज करने में काफी मदद मिली थी। इस दौरान ओपीडी सेवाएं बंद होने पर सामान्य मरीजों को इस टेली मेडिसिन सुविधा से सीधे तौर पर जुड़ कर राहत मिली थी। मुख्यमंत्री ने बीते साल टेली मेडिसिन की सराहना करते हुए इस सुविधा से दूसरे जिलों के मेडिकल कॉलेजों के आईसीयू को पीजीआई की टेली आईसीयू से जोड़ने के निर्देश भी दिए थे ताकि मरीजों को कोरोना के साथ दूसरी बीमारियों के गम्भीर मरीजों को मेडिकल कॉलेजों में पीजीआई जैसा इलाज मिल सके।

राजधानी लखनऊ में स्थित पीजीआई के विशेषज्ञों की टीम अब दूसरे जिलों में स्थापित मेडिकल कॉलेजों के डॉक्टरों को ऑनलाइन प्रशिक्षण भी देंगे। बता दें कि इस सेवा के शुरू होने से दूसरे जिले में वेंटिलेटर पर भर्ती मरीज, जटिल ऑपरेशन वाले रोगियों समेत दूसरे गंभीर मरीजों पर पीजीआई के विशेषज्ञों की पैनी नजर रहेगी। पीजीआई को कॉरपोरेट सोशल रिस्पांसिबिलिटी (सीएसआर) के तहत संचालित होने वाले टेली-आईसीयू का कमांड सेंटर बनाया गया है। यहां के विशेषज्ञ डॉक्टर कैमरे की मदद से गंभीर मरीजों को देखेंगे और उपचार की तकनीक बताएंगे।

0Comments