होम > राज्य > उत्तर प्रदेश / यूपी

मदरसों में आधुनिक शिक्षा से जोड़ने के लिए इस (MELA) ई-लर्निंग ऐप का हुआ शुभारम्भ

मदरसों में आधुनिक शिक्षा से जोड़ने के लिए इस  (MELA) ई-लर्निंग ऐप  का हुआ शुभारम्भ

उत्तर प्रदेश के पशुधन दुग्ध विकास, अल्पसंख्यक कल्याण एवं वक्फ विभाग के कैबिनेट मंत्री  धर्मपाल सिंह ने  कल्याण भवन में आयोजित कार्यक्रम में उ0प्र0 मदरसा शिक्षा परिषद के 49 मेधावी विद्यार्थियों को टैबलेट, पुरस्कार राशि, मेडल एवं प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया। इस अवसर पर मदरसों में आधुनिक शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए  विकसित मदरसा ई-लर्निंग ऐप (MELA) का शुभारम्भ किया गया। 

बच्चों को पुरस्कृत करते हुए धर्मपाल सिंह ने कहा कि इस आयोजन से सिर्फ बच्चे ही नहीं बल्कि उनके अभिभावक भी प्रोत्साहित होंगे और अपनी परम्परागत शिक्षा में आधुनिकता के समावेश का स्वागत करेंगे। यह कार्यक्रम उ.प्र. मदरसा शिक्षा परिषद के विद्यार्थियों के शैक्षिक उत्थान हेतु मील का पत्थर साबित होगा।

अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री ने कहा कि मदरसों को तकनीकी शिक्षा से जोड़ा जा रहा है और मदरसों की शिक्षा को गुणवत्तापरक एवं प्रतिस्पर्धात्मक बनाने के सभी प्रयास किये जा रहे हैं। इस अवसर पर अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री धर्मपाल सिंह ने कहा कि यह आयोजन राज्य सरकार की मुस्लिम बच्चों के एक हाथ में कुरान तथा एक हाथ में कम्प्यूटर और सबका साथ-सबका विकास एवं सबका विश्वास की नीति को धरातल पर लाने की प्रतिबद्धता का भी प्रत्यक्ष उदाहरण है।

धर्मपाल ने कहा कि अल्पसंख्यक वर्ग को उनके सर्वांगीण विकास के लिए सभी संसाधन और अवसर उपलब्ध कराकर समाज की मुख्यधारा में शामिल करने के लिए सरकार दृढ़ संकल्पित है और अल्पसंख्यक विभाग की 100 दिन की कार्ययोजना में जो लक्ष्य निर्धारित किया गया था उसे आज पूर्ण करके विभाग ने प्रशंसनीय कार्य किया है।

धर्मपाल सिंह को उ.प्र. मदरसा शिक्षा परिषद द्वारा संचालित मदरसों की सेकेण्ड्री (मुंशी/मौलवी), सीनियर सेकेण्ड्री (आलिम), कामिल एवं फाज़िल की बोर्ड परीक्षा वर्ष 2020 के 01 जुलाई, 2020 में घोषित परिणाम में प्रदेश स्तर पर प्रत्येक कक्षा (सेकेण्ड्री, सीनियर सेकेण्ड्री, कामिल एवं फाज़िल) में सर्वोच्च अंक पाने वाले प्रथम दस अर्थात् कुल 40 विद्यार्थियों को एक-एक लाख रूपये, टैबलेट, मेडल एवं प्रशस्ति पत्र तथा सेकेण्ड्री एवं सीनियर सेकेण्ड्री के गणित व विज्ञान विषय के अभ्यर्थियों में से प्रदेश स्तर पर प्रथम तीन स्थान प्राप्त करने वाले 09 विद्यार्थियों को रू. 51-51 हजार रूपये, टैबलेट, मेडल एवं प्रशस्ति पत्र ‘‘अरबी फारसी मदरसा विकास निधि’’ से सम्मानित किया गया।

धर्मपाल सिंह ने मदरसा ई-लर्निंग ऐप (MELA) का शुभारम्भ करते हुए कहा कि इस एप से उ.प्र. मदरसा शिक्षा परिषद से मान्यता/सहायता प्राप्त मदरसों में अध्ययनरत् छात्र/छात्राओं की सुविधा एवं पठन-पाठन हेतु समस्त आवश्यक अध्ययन सामग्री एक ही स्थान पर उपलब्ध हो सकेगी। 

इसमें छात्र/छात्राओं के उपयोगार्थ दीनियात कोर्स की पाठ्य पुस्तकें व इसके अतिरिक्त एन.सी.ई.आर.टी. पाठ्यक्रम के अनुसार समस्त पाठ्य पुस्तकें भी उपलब्ध होंगी। शिक्षकों द्वारा लाईव क्लास के माध्यम से छात्र/छात्राओं को पढ़ाया जा सकता है तथा शिक्षकों के पाठ्यक्रम से सम्बंधित वीडियो भी ऐप पर उपलब्ध होंगे, जिसको समय-समय पर अद्यतन किया जाता रहेगा। 

ऐप के माध्यम से मदरसों में कार्यरत शिक्षक एवं प्रधानाचार्य, जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारियों एवं रजिस्ट्रार, उ.प्र. मदरसा शिक्षा परिषद, लखनऊ को ऐप पर लॉगिन के माध्यम से एक साथ एक मंच पर लाया जा सकता है।

इस अवसर पर अल्पसंख्यक कल्याण विभाग के राज्यमंत्री दानिश आजाद अंसारी ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के नेतृत्व में राज्य सरकार द्वारा अल्पसंख्यक वर्ग के सामाजिक-आर्थिक-शैक्षिक सशक्तिकरण के लिए विभिन्न उल्लेखनीय कार्य किये जा रहे हैं। जिससे अल्पसंख्यक वर्ग का सर्वांगीण विकास सुनिश्चित होगा।

डॉ. इफ्तिखार अहमद जावेद, अध्यक्ष, उ.प्र. मदरसा शिक्षा परिषद ने इस अवसर पर विद्यार्थियों को उनके सुखद भविष्य की शुभकामनाएं दी।

कार्यक्रम में विशेष सचिव देवीशरण उपाध्याय, सी. इन्दुमती निदेशक, अल्पसंख्यक कल्याण, उ.प्र. मदरसा शिक्षा परिषद के सदस्यगण क़मर अली, इमरान अहमद, असद हुसैन, तनवीर रिज़वी के साथ-साथ आर.पी. सिंह, संयुक्त निदेशक, अल्पसंख्यक कल्याण, जगमोहन सिंह, रजिस्ट्रार, उ.प्र. मदरसा शिक्षा परिषद, एस.पी. तिवारी, एवं राहुल गुप्ता, उप निदेशक, अल्पसंख्यक कल्याण, सोन कुमार, बालेन्दु द्विवेदी एवं विजय मिश्रा, जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी उपस्थित रहे।