होम > राज्य > उत्तर प्रदेश / यूपी

महिला कल्याण मंत्री बेबी रानी मौर्य ने विभाग की समीक्षा बैठक की

महिला कल्याण मंत्री बेबी रानी मौर्य ने विभाग  की समीक्षा बैठक की

उत्तर प्रदेश की महिला कल्याण बाल विकास एवं पुष्टाहार मंत्री बेबी रानी मौर्य द्वारा जनपद मुजफ्फरनगर के विकास भवन सभागार में जनपदस्तरीय अधिकारियों के साथ महिला एवं बाल कल्याण, सुरक्षा संबंधी समीक्षा बैठक की गयी, जिसमें संबंधित अधिकारियों को उ0प्र0 सरकार एवं केन्द्र सराकार द्वारा चलायी जा रही विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं का लाभ पात्र लाभार्थियों तक पहुॅचाने के निर्देश दिये गये। उन्होंने अधिकारियों को लाभार्थीपरक योजनाओं में सामाजिक संवेदनशीलता अपनाने हेतु भी प्रेरित किया।

श्रीमती मौर्या द्वारा सभी जनपदस्तरीय अधिकारियों को उत्तर प्रदेश सरकार एवं केन्द्र सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं जैसे बेटी बचाओं - बेटी पढाओ, मिशन शक्ति, उ0प्र0 मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना, पति की मृत्युपरांत निराश्रित महिला पेंशन योजना का प्रचार-प्रसार कराकर पात्रों तक पहुॅचाने हेतु निर्देशित किया गया। 



बेटी बचाओं बेटी पढाओं योजना के अंतर्गत घर की शान बेटियों के नेम प्लेट लगाने व गो परपल अभियान एवं पिंक-डे जैसे कार्यक्रमों के आयोजन के लिए महिला कल्याण विभाग के जनपदीय अधिकारियों एवं कर्मचारियों की प्रशंसा की गयी। इस अवसर पर महिला कल्याण मंत्री द्वारा द्वारा उ0प्र0 मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के 10 लाभार्थियो/बालक/बालिकाओं को लैपटॉप वितरित किये गये ।

 बैठक में अवगत कराया गया कि जनपद में स्वीकृत 2274 आंगनबाडी केन्द्रों के सापेक्ष सभी 2274 आंगनबाडी केन्द्र संचालित है। जिनमे से 791 आंगनबाडी केन्द्र विभागीय भवन में, 637 आंगनबाडी केन्द्र प्राथमिक विद्यालयों के कक्ष में, 545 आंगनबाडी केन्द्र पंचायत/सामुदायिक भवनों में एवं 301 आंगनबाडी केन्द्र किराये के भवनों में संचालित है। जनपद में ड्राई राशन वितरण के विषय में अवगत कराया गया कि  राशन आंगनबाडी केन्द्रों पर पंजीकृत लाभार्थियों को वितरित किया जा रहा है।

किशोरी बालिकाओं के लिए योजना 11 से 14 वर्ष की स्कूल न जाने वाली किशोरी बालिकाओं को ड्राई राशन उपलब्ध कराया जाता है ताकि किशोरी बालिकाओ का शारीरिक एवं मानसिक विकास हो सकें। इसके अतिरिक्त जो किशोरियॉ स्कूल नहीं जाती अथवा पढाई छोड चुकी है उनको कन्या प्रवेश उत्सव के द्वारा जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी से समन्वय करते हुए स्कूलों में पुनः दाखिला कराया जा रहा है।