होम > राज्य > उत्तर प्रदेश / यूपी

योगी सरकार की आगामी कैबिनेट बैठक पहली बार काशी विश्वनाथ मंदिर में होगी

योगी सरकार की आगामी कैबिनेट बैठक पहली बार काशी विश्वनाथ मंदिर में होगी

क्या मंदिरों में भी हो सकती है कैबिनेट की बैठक ? क्या मंदिरों में कभी हुई है ऐसी बैठक ? इस तरह के तमाम सवालों के बीच संभवत: पहली बार कोई राज्य सरकार भगवान भोलेनाथ के मंदिर में कैबिनेट की बैठक करने वाली है। उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली सरकार की आगामी कैबिनेट बैठक 16 दिसंबर को काशी विश्वनाथ मंदिर में होगी। इस बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य और डॉ. दिनेश शर्मा समेत अन्य मंत्री मौजूद रहेंगे।

काशी विश्वनाथ मंदिर में होगी कैबिनेट बैठक
उत्तर प्रदेश में अगले साल विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। ऐसे में फिर से सत्ता में वापसी की कवायद में जुटी भाजपा सरकार काशी विश्वनाथ मंदिर में अगली कैबिनेट बैठक करने वाली है। जिसमें भाजपा का मास्टरस्ट्रोक माना जा रहा है। ऐसा इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि भाजपा इस बैठक के माध्यम से मतदाताओं को यह संदेश देना चाहती है कि लखनऊ के बाद वाराणसी उत्तर प्रदेश की दूसरी राजधानी है।

इतना ही नहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी योगी सरकार की कैबिनेट बैठक से पहले वाराणसी पहुंचने वाले हैं। प्रधानमंत्री 13 दिसंबर को अपने संसदीय निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी आने वाले हैं। इस दौरान वो काशी विश्वनाथ कॉरिडोर का उद्घाटन करेंगे।

इस दिन योगी आदित्यनाथ समेत उत्तर प्रदेश के तमाम नेतागण मौजूद रहेंगे। इतना ही नहीं पूर्वांचल को साधने के लिए योगी सरकार काशी विश्वनाथ मंदिर में कैबिनेट बैठक कर संदेश देने वाली है। 13 और 14 नवंबर को प्रधानमंत्री काशी में मौजूद रहेंगे। इसके बाद 16 तारीख को कैबिनेट की बैठक होगी। जिसमे सभी मंत्री बाबा विश्वनाथ के दर्शन करने के बाद कैबिनेट की बैठक में शामिल होंगे।

इस बैठक को लेकर तैयारियां शुरू हो चुकी हैं। ऐसा पहली बार होगा जब पूरी की पूरी कैबिनेट राजधानी को छोड़कर किसी मंदिर में पूजा अर्चना करने के बाद बैठक करेगी।
अखिलेश पर बरसी भाजपा

भाजपा ने समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव पर निशाना साधते हुए उनके शासन की तुलना विदेशी आक्रांताओं महमूद गजनवी और मोहम्मद गोरी से की थी। दरअसल, सपा प्रमुख ने कहा था कि काशी विश्‍वनाथ कॉरिडोर बनाने का निर्णय समाजवादी सरकार की कैबिनेट बैठक में लिया गया था। जिस पर भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने हमला बोलते हुए कहा कि "सैकड़ों करोड़ के हज हाउस बनाने वाले काशी विश्‍वनाथ कॉरिडोर को भी अपना काम बता रहे हैं। महादेव सब देख रहे हैं अखिलेश जी।"