होम > राज्य > पश्चिम बंगाल

आरएसएस की पृष्ठभूमि से आये सुकांत मजूमदार बनाये गए बंगाल में बीजेपी अध्यक्ष

आरएसएस की पृष्ठभूमि से आये सुकांत मजूमदार बनाये गए बंगाल में बीजेपी अध्यक्ष

कोलकाता | पश्चिम बंगाल में बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष के कार्यकाल समाप्त होने से ठीक पहले बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा ने सभी को चौंकाते हुए सोमवार को लोकसभा सांसद सुकांत मजूमदार को पश्चिम बंगाल में अपना नया पार्टी अध्यक्ष नियुक्त कर दिया।

हालांकि पिछले कुछ हफ्तों से, सुकांत मजूमदार और देबाश्री चौधरी सहित पार्टी के कुछ वरिष्ठ नेताओं के नाम बंगाल में अगले पार्टी अध्यक्ष के रूप में चर्चा में थे। मजूमदार 2019 में भाजपा के सदस्य के रूप में पश्चिम बंगाल के दक्षिण दिनाजपुर जिले के बालुरघाट निर्वाचन क्षेत्र से लोकसभा के लिए चुने गए थे। 

हालांकि दिलीप घोष को राष्ट्रीय स्तर पर लाते हुए पार्टी का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया गया है। यह बदलाव हाल ही में भाजपा से तृणमूल कांग्रेस में शामिल हुए बाबुल सुप्रियो का बयान आने के बाद किया गया है। सुप्रियो ने इस साल की शुरुआत में हुए विधानसभा चुनावों में पार्टी की हार के लिए दिलीप घोष को जिम्मेदार ठहराया था।

दक्षिण दिनाजपुर के सांसद सुकांत मजूमदार को उत्तर बंगाल में पार्टी की स्थिति मजबूत करने के उनके प्रयासों के कारण सबसे चुनौतीपूर्ण जिम्मेदारियों में से एक सौंपा गया है।

पार्टी के अंदरूनी सूत्रों का मानना है कि उत्तर बंगाल विश्वविद्यालय से वनस्पति विज्ञान में पीएचडी कर चुके मजूमदार 2024 में आगामी लोकसभा चुनाव के लिए राज्य में पार्टी का चेहरा बन सकते हैं।

भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने कहा, "विधानसभा चुनाव में शर्मनाक हार के बाद पार्टी की स्थिति बहुत अच्छी नहीं है। कई भरोसेमंद लोग पार्टी छोड़ रहे हैं। ऐसे में लोगों के बीच भाजपा की सकारात्मक छाप छोड़ना उनके लिए चुनौतीपूर्ण होगा।"

घोष ने राज्य इकाई प्रमुख के रूप में अपना दूसरा कार्यकाल पहले ही पूरा कर लिया था, लेकिन ऐसा लगता है कि पार्टी रैंक और फाइल के बीच उनकी स्वीकार्यता खो गई है।

पूर्व केंद्रीय मंत्री सुप्रियो ने विधानसभा चुनाव में पार्टी के खराब प्रदर्शन के लिए खुलेतौर पर घोष को जिम्मेदार ठहराया है।

एक संवाददाता सम्मेलन में सुप्रियो ने कहा था, "चुनाव प्रचार के दौरान उनकी टिप्पणी विद्यासागर, रवींद्रनाथ टैगोर या सत्यजित रे की संस्कृति के साथ मेल नहीं खाती थी। वह बंगाली मानस होते हुए भी बंगालियों के लोकाचार के साथ असंगत थे। उन्होंने पार्टी के पतन में योगदान दिया।"

गायक से नेता बने सुप्रियो उन नेताओं में शामिल हैं, जिन्होंने हाल ही में तृणमूल में शामिल होने के लिए भाजपा छोड़ दी है।

उन्होंने यह भी कहा कि यह भी हो सकता है कि बंगाल चुनाव से ठीक पहले लोगों को 'अंधाधुंध' भाजपा में शामिल किए जाने से चुनाव में पार्टी का प्रदर्शन प्रभावित हुआ हो।

एक वरिष्ठ नेता ने कहा, "यह देखना दिलचस्प होगा कि मजूमदार पार्टी में खुले आक्रोश को कैसे संभालते हैं और 'पुरानी भाजपा' और 'नई भाजपा' के बीच विभाजन को कैसे पाटते हैं।"