होम > शेयर बाजार

वैश्विक संकेतों से इक्विटी सूचकांक पर असर, रियल्टी शेयरों में गिरावट

वैश्विक संकेतों से इक्विटी सूचकांक पर असर, रियल्टी शेयरों में गिरावट

मुंबई| कमजोर एशियाई संकेतों के साथ-साथ मुनाफावसूली ने भारत के प्रमुख इक्विटी सूचकांकों एसएंडपी बीएसई सेंसेक्स और एनएसई निफ्टी 50 को शुक्रवार को दोपहर के कारोबार सत्र के दौरान प्रभावित किया। शुरूआती कारोबारी घंटों में, 1 अक्टूबर को खुलने के बाद बाजार निचले स्तरों पर संघर्ष कर रहा है।

वैश्विक स्तर पर एशियाई बाजार निचले स्तर पर खुलने के बाद निचले स्तर पर हैं। इसके अलावा, यूरोपीय बाजार विकास और मुद्रास्फीति की आशंकाओं पर कम खुले हैं। घरेलू मोर्चे पर, रियल्टी, टेलीकॉम, ऑटो और एफएमसीजी अब तक के प्रमुख नुकसान हैं, जबकि धातु मुख्य फायदे में है।

इस हिसाब से 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक दोपहर 1.15 बजे के करीब 426.28 स्तर यानी 0.72 फीसदी की गिरावट के साथ 58,700.08 स्तर पर कारोबार कर रहा है। सेंसेक्स अपने 59,126.36 स्तर के पिछले बंद से 58,889.77 स्तर पर खुला। इसके अलावा एनएसई निफ्टी50 118.30 अंक या 0.67 फीसदी की गिरावट के साथ 17,499.85 अंक पर कारोबार कर रहा है।

एचडीएफसी सिक्योरिटीज के खुदरा अनुसंधान प्रमुख दीपक जसानी ने कहा, "अन्य एशियाई बाजारों में कमजोरी ने स्थानीय स्तर पर मैक्रो डेटा को प्रोत्साहित करने के बावजूद भावनाओं को प्रभावित किया है। भारतीय बाजार बाद में दिन में शुरूआती नुकसान को आंशिक रूप से ठीक करने का प्रयास कर सकते हैं।"

कैपिटल वाया ग्लोबल रिसर्च की सीनियर रिसर्च एनालिस्ट, लिखिता चेपा के मुताबिक, "व्यापारी सतर्क हैं क्योंकि अगस्त के अंत में सरकारी राजकोषीय घाटा बजट अनुमान के 31.1 प्रतिशत को छू गया है। हमारे शोध से पता चला है कि वैश्विक आर्थिक सुधार और अमेरिका में लगातार मुद्रास्फीति के दबाव के आसपास की चिंताओं के कारण बाजार अपने नुकसान को बढ़ा सकता है।"