होम > विशेष खबर

वर्ष 2023 को अंतर्राष्ट्रीय बाजरा वर्ष के रूप में मनाया जायेगा, आइए जाने बाजरे के फायदे

वर्ष 2023 को अंतर्राष्ट्रीय बाजरा वर्ष के रूप में मनाया जायेगा, आइए जाने बाजरे के फायदे

बाजरा अपने उच्च पोषक तत्वों के लिए जाना जाता है क्योकि इसमें प्रोटीन तथा एमिनो अम्ल, फाइबर, विटामिन तथा खनिज से पूर्ण होने के कारण यह सुपर फ़ूड कहा जाता है, यह हजारों सालों से मुख्य भोजन रहा है, हरित क्रांति के बाद गेहूं और चावल की अधिकता के कारण इसका उपयोग धीरे धीरे कम होने लगा, कृषि मंत्रालय के अनुसार बाजरा चौथी पंचवर्षी में कुल खाद्यान्न का 20 प्रतिशत था जो अब घटकर 6 प्रतिशत रह गया है।

2021 में भारत सरकार ने संयुक्त राष्ट्र को 2023 अंतर्राष्ट्रीय बाजरा वर्ष मानाने का प्रस्ताव भेजा था जिसे संयुक्त राष्ट्र ने 2023 को अंतर्राष्ट्रीय बाजरा वर्ष मानाने के लिए स्वीकृत कर लिया है, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अगस्त महीने की मन की बात में कहा था कि भारत पूरे विश्व में बाजरा उत्पादन में सबसे आगे है तथा इसे सभी भारतियों को खाना चाहिए क्योंकि यह कुपोषण से लड़ने में फायदेमंद है।

स्मार्ट फ़ूड बाजरे में आयरन, जिंक, फ्लोराइड तथा विटामिन बी 6 पाया जाता है यह प्रोटीन से भरपूर तथा ग्लूटन मुक्त होता है, दुनिया में सबसे ज्यादा बाजरा उत्पादन भारत में होता है और भारत में भी राजस्थान पहले स्थान पर है क्योंकि यह कम उपजाऊ तथा शुष्क जमीन में उगता है तथा यह सूखे मौसम में अच्छी उपज देता है।