सीएम का फर्जी हस्ताक्षर कर ठगी करने वाले दबोचे गए

सीएम का फर्जी हस्ताक्षर कर ठगी करने वाले दबोचे गए

असम में पुलिस ने मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा (Himanta Biswa Sarma) का फर्जी हस्ताक्षर कर एक कंपनी को सरकारी ठेके का आश्वासन देकर कई लाख रुपये ठगने के आरोप में चार लोगों को गिरफ्तार किया है।


पुलिस द्वारा सोमवार को जारी विज्ञप्ति के अनुसार, उन्हें 8 सितंबर को मुख्यमंत्री कार्यालय से जानकारी मिली कि मुख्य अभियंता (सार्वजनिक स्वास्थ्य इंजीनियरिंग-पानी) को सीएम के जाली हस्ताक्षर के साथ एक नोट मिला है जिसमें निर्देश दिया गया है कि लोहित कंस्ट्रक्शन को 3 करोड़ रुपये से अधिक का ठेका दिया जाए।


दिसपुर पुलिस स्टेशन में मामला दर्ज कर कंपनी के चार लोगों को पूछताछ के लिए बुलाया गया था। उन्होंने खुलासा किया कि गुवाहाटी के रहने वाले इमरा शाह चौधरी ने उन्हें 3 प्रतिशत कमीशन के बदले विभाग में 3.16 करोड़ रुपये के अनुबंध का आश्वासन दिया था।


पूछताछ किए गए चार व्यक्तियों में से दो ने कथित तौर पर चौधरी को 9 लाख रुपये (अनुबंध के कुल मूल्य का 3 प्रतिशत) सौंप दिया, जिसके बदले में उन्हें एक जाली कागजात दिया गया, जिसे उन्होंने मुख्य अभियंता के कार्यालय में जमा किया।


पुलिस जांच में पता चला कि चौधरी ने तीन अन्य लोगों - दिलीप दास, अनुपम चौधरी और प्रकाश बसुमतारी की मदद से सीएम के फर्जी हस्ताक्षर किए थे। तीनों ने कथित तौर पर चौधरी से उनकी मदद के लिए कमीशन के रूप में 3 लाख रुपये प्राप्त किए। जाली दस्तावेज नबा रॉय नाम की एक दुकान पर तैयार किया गया था।


पुलिस विज्ञप्ति में बताया गया, “जांच से पता चला कि चौधरी और राजीव कलिता नामक एक व्यक्ति को एफआईआर के बारे में पता चलने के बाद वे दिल्ली भाग गए। हालांकि गुवाहाटी पुलिस की एक टीम ने उन्हें ट्रैक कर लिया।”


कलिता को 11 सितंबर को दिल्ली से आने पर गुवाहाटी हवाईअड्डे पर गिरफ्तार किया गया था। एक अन्य आरोपी दिलीप दास को उसी दिन गुवाहाटी से गिरफ्तार किया गया था। रविवार को चौधरी को नई दिल्ली के एक होटल से गिरफ्तार किया गया। उसे शीघ्र ही गुवाहाटी लाया जाएगा।


0Comments